बुझ गया घर का इकलौता चिराग़

0
75


सुल्तानपुर (ब्यूरो) : सुल्तानपुर नगर के लखनऊ नाका मोहल्ले निवासी फल व्यवसाई राजेश मौर्या (42)का मुम्बई के एक हॉस्पिटल में निधन हो गया। वह इकलौते पुत्र थे। घर का चिराग बुझ जाने से उनकी दो संतानों(सोना 6 वर्श,रौनक 2 साल)के सिर से पिता का साया उठ गया।दिवंगत राजेश की पूर्व विधायक अनूप संडा के आवास के सामने पुरानी फल की दुकान थी।बीते कई महीनों से चिकित्सकों ने उन्हें इलाज के नाम पर गुमराह किया।इधर टाइफाइड का मर्ज बढ़ता गया।अंतोगत्वा आज भोर में उनका मुम्बई में निधन हो गया।

तीन वर्स पूर्व उनके पिता की हुई थी मौत
इकलौते राजेश(42) के निधन से हर कोई स्तब्ध है।इसे नियति का खेल कहें या कुछ और दुनिया छोड़ चुके राजेश के पिता जगन्नाथ की भी मौत तीन वर्ष पूर्व हो चुकी थी।व्यवसाय पे हाथ बंटा रहे राजेश के कंधों पर पूरी जिम्मेदारी आन पड़ी।लेकिन राजेश के निधन से घर में बूढी माँ और पत्नी का रो- रोके बुरा हाल है।

अब कौन देगा स्कूल की फ़ीस
“अब कौन देगा स्कूल की फ़ीस”ये छाती फाड़ देने वाले सवाल छः साल की बिटिया सोना के है जो जो मोहारे पर खड़ी होकर रोते हुए पड़ोसियों से सवाल कर रही थी।वह गुरुचरन पब्लिक स्कूल की छात्रा है।साथ ही वह अपने छोटे भाई को पकड़े थी जो पूरे दर्द से अंजान था।

बुधवार देर रात तक पहुंचेगा शव
राजेश का शव बुधवार के देर रात तक घर पहुँचने की संभावना जताई जा रही है।लगबग 15 सौ किलोमीटर का सफ़र तय कर डेड बॉडी जिले में पहुंचेगी।राजेश के शव के साथ ससुर,बहनोई आदि भी आएंगे।बताया जाता है कि शुक्रवार को अंत्येष्टि कार्यक्रम होगा।

रिपोर्ट – संतोष यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here