चरमपंथी समूहों के केंद्र, पाकिस्तान का परमाणु दुस्वप्न : न्यूयॉर्क टाइम्स

0
331

ny times

अमेरिका के प्रतिष्ठित अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में “पकिस्तान का परमाणु दुस्वप्न” शीर्षक के साथ छपे एक सम्पादकीय में कहा गया कि पकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम पर नियंत्रण करना अंतर्राष्ट्रीय प्राथमिकता होनी चाहिए | पाकिस्तान जिस गति से अपनी परमाणु शक्ति बाधा रहा है यह सम्पूर्ण विश्व और खास तौर पर दक्षिण एशिया के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है |

इस सम्पादकीय में कहा गया कि बहुत ही जल्द 120 परमाणु हथियारों के साथ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी परमाणु शक्ति बन जायेगा | इस स्थिति में वह सिर्फ अमेरिका और रूस से पीछे रहेगा | इसमें कहा गया “पाकिस्तान की परमाणु शक्ति किसी भी दूसरे देश की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ रही है, हाल ही में छोटे सामरिक परमाणु हथियार शामिल होने की वजह से यह और भी खरतनाक हो गया है | पाक इन छोटे सामरिक परमाणु हथियारों का प्रयोग भारत के खिलाफ भी कर सकता है |

क्योंकि पाकिस्तान कई चरमपंथी समूहों का केंद्र है और इनमे से कुछ को भारत से द्वेष रखने वाले सुरक्षा एजेंसीयों का समर्थन भी हासिल है इसलिए पाकिस्तान की बढ़ती परमाणु शक्ति सम्पूर्ण विश्व के लिए चिंता का विषय है ऐसे में पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को नियंत्रित करना अंतर्राष्ट्रीय प्रथमिकता होनी चाहिए |

अखबार ने कहा कि दुनिया की प्रमुख ताकतों ने ईरान को परमाणु समझौते के लिए मनाने में दो साल लगाए, लेकिन पाकिस्तान को लेकर कोई ‘तुलनात्मक निवेश’ नहीं किया गया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

three × three =