भइया भाग लियो बड़कये साहब आवत है, पकड़ गये तो खैर नही

0
200

रायबरेली, (ब्यूरो)- जिले मे चटक रहे अवैध शराब कारोबारियों के खिलाफ एसपी ने खुद मोर्चा संभाल लिया है | एसपी की इस कार्यवाही से माना जा रहा है कि शायद जिले में स्थानीय थानेदार व पुलिस को एहसास हो सके की जो काम हमे करना चाहिए वह जिले का पुलिस मुखिया कर रहा है और वह अपनी जिम्मेदारी को समझ सके |

हालाँकि इस कार्यवाही मे पुलिस अधीक्षक को सूचना प्राप्त हुई थी कि उक्त गांव मे शराब का कारोबार काफी दिनो से चल रहा है जिसके बाद सूचना मिलते ही एसपी ने एक टीम का गठन किया जिसके मुखिया खुद बने और पहुंच गये उस गांव जहां चटक रही थी अवैध शराब की भठठी, हालाँकि शराब कारोबारी तो नही मिल सके लेकिन शराब बनाने के उपकरण समेत लगभग दो कुंन्तल लहन नस्ट किया गया |

बताते चले कि पुलिस अधीक्षक शिव हरि मीना को सूचना प्राप्त हुई थी कि थाना बछरांवा के पासी टूसी गांव में काफी दिनों से शराब का कारोबार चल रहा है फिर क्या था साहब ने आनन-फानन एक टीम गठित की जिसमे हमराह सी.ओ. विनीत सिंह, थानाध्यक्ष बछरावां व हरचन्दपुर थाना अध्यक्ष समेत महिला एस.ओ. को शामिल किया और पूरी टीम के साथ ग्राम पासी टूसी थाना बछरावां क्षेत्र जा पहुँचें जहां वाकई अवैध शराब की भठठी चटक रही थी | हालाकि मौके से कारोबारी तो फरार हो चुके थे लेकिन शराब बनाने के उपकरण व लहन बरामद कर लिया गया जिसे बाद मे नष्ट कर दिया गया|

कही शराब कारोबारियों को सूचना तो नही दे दी गई-
पुलिस अधीक्षक की औचक निरीक्षण के दौरान फरार हुए शराब कारोबरियों से यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उन्हें पुलिस मुखिया की आने की खबर पहले ही मिल चुकी थी तभी वहा पर पहुँची पुलिस टीम के हाथ कोई भी शराब कारोबारी नही लग सका |

बताते चले कि इसके पूर्व भी कई बार उक्त गांव मे अवैध शराब बनाने वालो के खिलाफ पुलिस कार्यवाही कर चुकी है कुछ दिन तो माहौल ठीक ठाक चलता है बाद मे फिर भठठियां चटकने लगती है सूत्रो की माने तो इसमे छेत्रीय व बीट के सिपाहियों समेत आबकारी की मिली भगत रहती है | इस अवैध शराब के कारोबार की बढोत्तरी मे सिर्फ पुलिस ही नही बल्कि आबकारी विभाग भी कम दोषी नही रहता है | आबकारी विभाग का भी दायित्व बनता है कि वह अपने गुप्तचरो के माध्यम से इसकी पड़ताल कर सकते हैं फिलहाल एसपी की इस कार्यवाही ने यह साबित कर दिया है कि पुलिस चाह ले तो अवैध शराब का कारोबार का खात्मा हो सकता है |

रिपोर्ट- अनुज मौर्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here