बारिस में रेत की बढ़ेगी कीमत

0
54

डोंगरगढ़/छत्तीसगढ़(ब्यूरो)- जैसे-जैसे बारीश का मौसम नजदीक आ रही है वैसे-वैसे रेत के व्यापारी भारी मात्रा में अवैध रेत का भंडारण कर रहे है| माइनिंग विभाग को खबर होने पर भी कार्यवाही नही हो रही है। कुछ एक बार कार्यवाही करने के बाद कान में रुई डालकर अधिकारी बैठे रहते है| बीते दिनों जोगी कांग्रेस के विरोध के चलते रोड निर्माण करने वाली कंपनी के द्वारा अवैध रेत मुरम का इस्तेमाल करने पर माइनिंग विभाग ने विरोध के चलते बड़ी मशक्कत के बाद विरोध होने से इस कंपनी के खिलाफ़ कार्यवाही की गई थी और पुलिस प्रशासन ने तीन डम्फर की जप्ती की थी | बावजूद धड़ल्ले से हो रही रेत की तस्करी जारी है।

इसी क्रम में रेत लेकर जाती हुई हाइवा के ड्राइवर से बात चीत की गई और जानकारी ली गई तो चौकाने वाले खुलासे सामने आए और उस ड्राइवर के द्वारा जन प्रतिनिधियों का नाम बताया गया और कहा कि मटेरियल सप्लायर के यहाँ खाली करना है किंतु वह गोल गोल इधर से उधर गाड़ी घुमाती रही और अंततः वह गुरुद्वारा के पास रेत डम्प करते देखा गया ।

दूसरी ओर हरनसिंगी की ओर जाने वाली मार्ग में रोड के साइड में रेत डम्प होना बताया गया, साथ ही इनके द्वारा इट भट्टी का भी कारोबार किया जाता है।
देश प्रदेश की किसी को कोई चिंता ही नही है ऐसे में कितने ही राजस्व का भार सरकार पर पड़ती होगी , कुछ सासन के नियमो को अपनाकर सही तरीके से कारोबार करने में क्या गलत होगा, इतनी सी बात इन कारोबारियों को समझ मे क्यो नही आती?

इसका बहुत बड़ा कारण प्रशासन का इनके साथ संलिप्तता का होना कहा जा सकता है। संगठन बना लेना मात्र इसका उपाय नही है, बात गलत कारोबार का है। इस ओर ठोस कदम उठाया जाना बहुत ही जरूरी है और सरकार को अवैध कारोबारियो के प्रति कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए।

रिपोर्ट-अमरीश टांडिया/हरदीप छाबड़ा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY