मुख्यमंत्री जी गाँवो में भी जनता रहती है

0
100

बछरावाँ/रायबरेली (ब्यूरो)- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सबका साथ-सबका विकास एवं भृष्टाचार मुक्त भारत बनाने की बात जोर-शोर से की जा रही है। लेकिन पूर्ववर्ती सरकारो में पूरी तरह से तानाशाह हो चुके अधिकारियो व कर्मचारियो पर मोदी एवं योगी के दिशा निर्देशों का असर विकासखंड बछरावाँ में नही दिख रहा है। चाहे पुलिस विभाग हो, विकास विभाग हो, राजस्व विभाग हो या फिर स्वाथ्य विभाग हो । सभी के जिमेदार अधिकारियो ने न सुधरने की जैसे कसम ही खाली है कि हम नही सुधरेंगे।

लेखपाल के पास जब कोई गरीब व्यक्ति इंतखाब व खसरे की नकल लेने जाता है। तो लेखपाल के दर्शन तो नही होते लेकिन इनके द्वारा नियुक्त किये गए ब्रोकरों की चरण बन्दगी किये बिना उनका काम नही होता है। आज बछरावाँ विकासखण्ड की सबसे बड़ी समस्या खस्ताहाल सड़को की है। चाहे बछरावाँ से मौरावां मार्ग हो, चुरुवा से सेहगों मार्ग हो, कसरावां से जहाँगीर बाद को जाने वाला मार्ग हो या सेहगों से बंका गढ़ को जाने वाले मार्ग को देखकर नही लगता है कि जो मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि 15 जून तक प्रदेश की सारी सड़के गढ्ढा मुक्त हो जाएंगी । लगता नही है कि ऐसा कुछ होगा।

बछरावाँ क्षेत्र की दूसरी समस्या जानवरो के लिए पीने के पानी की है। बता दें कि क्षेत्र के प्रधानों व लेखपालो का वरदहस्त प्राप्त होने के कारण मछली पकड़ने वाले लोग तालाबो का पानी बाहर निकालकर तालाब को सूखा करने में महती भूमिका निभाती है। आगे आने वाली भीषण गर्मी में ग्राम पंचायतों द्वारा सूखे पड़े तालाबो में पैसा खर्च कर पानी भरवाया जायेगा। पानी भरवाने में पूरे क्षेत्र में लाखों रूपया पानी की तरह बहा दिया जायेगा। अगर समय रहते ग्राम प्रधान व लेखपाल इन मछली पकड़ने वालो पर शिकंजा कस देते तो सरकार का लाखो रुपया जो प्रधानों व लेखपालो की जेबो में जाता है वह बचाया जा सकता था।

दूसरी तरफ विकास खंड परिसर में सम विकास योजना के तहत दुकानों का निर्माण कराया गया था। शासन की मंशा थी की विकासखण्ड परिसर में खाली पड़ी जमीन में दुकानों का निर्माण कराकर गरीब लोगों को आवंटित कर दिया जायेगा। जिसमे वो अपना कोई रोजगार कर अपने परिवार का पालन-पोषण कर सकेंगे। लेकिन सरकार की इस मंशा की बछरावाँ विकास खंड में खुलेआम धज्जिया उड़ाई जा रही है।

विकास खंड परिसर में निर्मित दुकानों में ये शर्त थी की गैस भट्ठी सहित कोई भी ज्वलनशील पदार्थ का उपयोग नही किया जा सकता है। लेकिन संजय नगर मजरे बिशुनपुर निवासी राजाराम यादव नियमो को धता बताते हुए खंडविकास अधिकारी निवास के बगल में एक नही तीन-तीन दुकानों में अवैध रूप से दबंगई के बल पर तथा पूर्व माननीय के संरक्षण में खुलेआम तीन-तीन दुकानों में होटल का संचालन किया जा रहा है।

इसमें एक नियम और भी था कि उक्त दुकाने सिर्फ गरीब व्यक्तियों को ही आवंटित की जायेगी। लेकिन राजाराम यादव साम, दंड, भेद अपनाकर दुकानों पर कब्जाकर लिया गया। राजाराम यादव कितना गरीब है यह जांच का विषय है? दूसरी तरफ इससे भी चौकाने वाला कार्य वर्तमान खण्ड विकास अधिकारी सरिता गुप्ता द्वारा नियमो को ताक पर रखकर इन दुकानों में कांग्रेश पार्टी का कार्यालय चलाया जा रहा है।

जब संवाददाता ने दूरभाष पर खण्ड विकास अधिकारी से राजाराम यादव द्वारा चलाई जा रही दुकाने तथा कांग्रेश पार्टी द्वारा चलाया जा रहा कार्यालय के बारे में जानकारी चाही तो खण्ड विकास अधिकारी ने बताया क़ि उक्त प्रकरण के बारे में कोई जानकारी नही है। जानकारी करके आपको अवगत करा दिया जायेगा। सवाल उठता है कि राजाराम यादव द्वारा चलाई जा रही होटल तथा कांग्रेश पार्टी द्वारा चलाया जा रहा कार्यालय खण्ड विकास अधिकारी निवास के बगल में ही है।

अफ़सोस इस बात का है कि उनको उक्त प्रकरण की जानकारी ही नही है। तथा खण्ड विकास अधिकारी कार्यालय से चंद कदमो की दूरी पर ही भारतीय जनता पार्टी के विधायक रामनरेश रावत का कार्यालय व निवास है। वस खण्ड विकास कार्यालय के सामने से ही विधयक निवास को जाने वाला मार्ग है।फिर भी इनको इस प्रकरण की जानकारी नही है। क्षेत्र की जनता ने क्षेत्रीय विधायक से आस छोड़कर मुख्यमंत्री योगी से अखबार के माध्यम से गुहार लगाई है कि उक्त प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए सम्बंधित व जिम्मेदार अधिकारियों की निष्पक्षता से जांच कराकर दण्डित किया जाये। तभी माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व योगी जी का नारा सबका साथ- सबका विकास कस नारा सार्थक होगा। क्योंकि मुख्यमंत्री जी गाँवो में भी जनता रहती है।

रिपोर्ट- जय सिंह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here