विधुत विभाग के जेई का असली चेहरा तब आया सामने कनेक्शन धारक से रिश्वत न मिलने पर लिखा दी थाने में रिपोर्ट

0
70


हसनगंज/उन्नाव (ब्यूरो)- विधुत विभाग की मनमानी के चलते कटिया डालकर चलाने वालों की चेकिंग के दौरान रिश्वत न देने पर कनेक्शन धारकों पर जेई ने एफआईआर दर्ज करायी।जिस पर पीड़ित ने जेई के द्वारा 25 हजार रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाकर सी डी ओ से शिकायत की है।

मालूम हो कि हसनगंज कोतवाली क्षेत्र के बारा खेडा गांव में बीते 29 नवम्बर की शाम को अवर अभियंता आरके सिंह ने टीम के साथ विधुत चेकिंग अभियान के दौरान आधा दर्जन ग्रामीणों को चोरी से कटिया डालकर जलाते हुए पकड़ने का दावा किया था और सभी के खिलाफ कोतवाली हसनगंज में में एफआईआर दर्ज करायी लेकिन खास बात यह है कि जब रामकली पत्नी महाबली का कनेक्शन होने के बावजूद भी जेई आरके सिंह ने रिश्वत न देने पर फजीॅ मुकदमा पंजीकृत करा दिया। जबकि मौके पर राम कली के पति ने कनेक्शन की रसीद दिखाई उसके बावजूद जेई ने रसीद को फजीॅ बताकर फेंक दिया। जबकि कनेक्शन धारक ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा सौभाग्य योजना के अंतर्गत अपना कनेक्शन कराया था तभी विभाग ने मीटर भी लगा दिया था। उसके बाद जेई ने सरकारी योजना की धज्जियां उडाकर कोतवाली में छह लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी है।

पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि जेई राजेश कुमार सिंह ने कनेक्शन धारक से कार्यवाही न करने के नाम पर 25 हजार रुपये की मांग की थी। रिश्वत न मिलने पर जेई ने एफआईआर दर्ज करायी है। पीड़ितो ने 4 दिसंबर के तहसील दिवस में सी डी ओ को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। जिस पर मुख्य विकास अधिकारी प्रेम रंजन ने एस डी ओ को कड़ी फटकार लगाकर जवाब तलब किया है। पीड़ितों जेई पर 25 हजार रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। इस सम्बंध में एस डी ओ निखिल जयसवाल से पूछने पर बताया है कि रसीद फर्जी है। किसने जारी किया है उसके खिलाफ विभागीय कार्यवाही कराई जाएगी। ग्रामीणों ने जेई पर रिश्वत लेने का आरोप गलत लगाया है। जबकि इसके पहले जेई राजेश सैनी के द्वारा सांसद प्रतिनिधि नृपेंद्र सिंह से बीस हजार रुपये की रिश्वत ली थी। जिसपर भाजपा सांसद साक्षी महराज की शिकायत पर जेई के खिलाफ कार्यवाही के नाम पर महज आगरा ट्रांसफर किया गया था।

रिपोर्ट – राजेंद्र आजाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here