यूपी में स्वच्छता मिशन के अंतर्गत बने शौचालयों की असलियत

इटावा(ब्यूरो)- भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की सबसे सच्ची और बेहतर तश्वीर हुआ दिखाई देता है, तो वह उत्तर प्रदेश है । जहां पर प्रदेश को स्वच्छ रखने के लिए नरेन्द्र मोदी ने काफी प्रयास किए है । नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भारत स्वच्छता मिशन के अनतर्गत प्रत्येक ग्रामीण परिवार को शौचालय बनाने के सहायता के रूप में 12000 हजार रुपए मुहैया कराए जाने का अश्वासन दिया है लेकिन लोग इसका लाभ तो ले रहे है पर जब स्वच्छता मिशन की टीम ने गांव-गांव जाकर नरेन्द्र मोदी की इस योजना को ग्रामीणों तक पहुंचाया और इसकी जानकारी दी। गांव में शौचालय चेक किए तो पाया की किसी ने शौचालय के आगे दीवार खड़ी कर दी, तो किसी ने अपने शौचालय में कंड़े भर दिए ।

ऐसी है ग्रामीण क्षेत्रों की हालात-
इटावा जिला की स्वच्छता मिशन की टीम ने गांव में जाकर जब इसका जायसा लिया तो पूरे गांव ने स्वच्छता मिशन की धज्जियां उड़ा दी । प्रदेश सरकार प्रत्येक पंचवर्षीय योजना में ग्रामीण क्षेत्रों के लिए करोड़ों रुपए खर्च करती है । लेकिन इस पैसे का बंदरबांट प्रधान से लेकर ब्लाक स्तर तक के अधिकारी चट कर जाते है और विकास कार्य सिर्फ और सिर्फ फाइलों में बंद होकर रह जाता है लेकिन धरातल पर दिखाई नहीं देता है।

वही स्वच्छता मिशन की टीम ने बताया कि हम लोगों ने गांव-गांव जाकर शैचालय चेक किए तो पाया किसी में कंडे भरे और किसी ने अपना शौचालय के आगे दीवार खड़ी कर दी है। वही स्वच्छता मिशन ने रैली के माध्यम से संदेश दिया कि अपने गांव को स्वच्छ रखे और बीमारियों से बचाए। स्वच्छता मिशन टीम ने नगला,  भगवंतपुर आदि गांव चेक किए।

रिपोर्ट- सुशील कुमार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here