एसटीएफ व क्रांइम ब्रांच की टीम को मिली सफलता, लूट काण्ड का पर्दाफास

0
58

वाराणसी(ब्यूरो)- वाराणसी के इतिहास में विगत दिनों ठठेरी बाजार में हुई लगभग करोड़ की डकैती की घटना से पूरा जनपद सहित प्रदेश हिल उठा था। घटना का पर्दाफाश करना पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था। घटना के कुछ ही दिन बाद ठठेरी बाजार में हुई सनसनीखेज डकैती का सफल पटापेक्ष करते हुये आज एसटीएफ व क्रांइम ब्रांच की टीम ने घटना में शामिल एक महिला सहित चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया।

प्रेसवार्ता के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नितिन तिवारी ने बताया कि घटना के सफल अनावरण के लिये एसटीएफ वाराणसी, जनपदीय क्राईम ब्रांच एवं पुलिस की विशेषज्ञ टीमों द्वारा आपस में समन्वय स्थापित करते हुए अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी। इस क्रम में एसटीएफ, जनपदीय पुलिस एवं क्राईम ब्रान्च द्वारा क्षेत्र के सीसीटीवी फुटेज का संकलन व गहन अवलोकन किया गया। संदिग्धों के स्केच तैयार किये गये। उक्त सभी टीमों के अथक प्रयासों से काफी कुछ जानकारी एकत्र हो गयी। मुखबिरों को भी सक्रिय किया गया।

इसी क्रम में आज मुखबिर द्वारा सूचना दी गयी कि घटना में सम्मिलित अभियुक्त पटेलनगर मुगलसराय जनपद चन्दौली में अपने मामा संजय उर्फ संजू के घर पर मौजूद है और कही भागने की फिराक में है। इस सूचना पर विश्वास करके संयुक्त टीम ने घेराबन्दी कर शिवम शर्मा, सुधीर शर्मा, विनिता शर्मा निवासी शीतला गली चैक वाराणसी व जीशान निवासी चाहमामा, चैक को धारा 395/397/412/120बी भादवि व 3/25 आम्र्स एक्ट के तहत गिरफ्तार कर उनके पास से 21 कंगन, एक झुमका, अंगूठी बरामद किया। वहीं घटना में शामिल अन्य फरार अभियुक्तों के गिरफ्तारी के लिये पुलिस जगह-जगह दबिश दे रही है।

पूछताछ के दौरान अभियुक्तों ने बताया कि उक्त घटना की योजना फैजान और जीशान ने बनायी थी। योजना के अनुसार 8 अप्रैल को सभी लोग फैजान के घर पर एकत्र हुए व बनायी योजना के अनुसार सबसे पहले पप्पू नाटे व अलताफ उसके दुकान में जेवर देखने के बहाने घुसे। उसके थोड़ी ही देर बाद अमन, मनोज माम व एक व्यक्ति और जिसको मैं नहीं जानता तीनों लोग दुकान में घुसे एवं सीसीटीवी के तार व सिस्टम को तोड़ने का काम किया एवं असलहे के दम पर सबको कवर किये रहे। शेष लोग दुकान के नीचे गली में ही बैकअप के लिए खड़े रहे। हम सभी लोगों के पास तमंचे, चाकू व बम मौजूद था। यदि विरोध होता तो हमला भी किया जा सकता था। घटना के बाद सभी लोग अपना-अपना हिस्सा लेकर अपने ठिकानों के लिए चले गये। मैंने अपने हिस्से का लगभग 250 ग्राम सोना अपने घर में ही छिपा कर अपने मामा के यहाॅं चला गया था।

रिपोर्ट- सर्वेश यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY