संघ का कार्य ईश्वरीय कार्य है: रंजीत सिंह

0
71

रायबरेली(ब्यूरो)- संघ का कार्य ईश्वरीय कार्य है, जो 1925 मे बिजयादशमी के दिन महज पांच स्वयं सेवको के साथ शुरू हुआ और आज भारत ही नहीं विश्व के तमाम देशो में हमारी हजारों शाखाएँ हैं। जिससे लाखों स्वयं सेवक जुड़े हैं और संघ दुनिया का सबसे बड़ा स्वयं सेवी संगठन हैं। इसका श्रेय संघ के प्रचारक को जाता है जो अपना घर बार छोड़कर राष्ट्र की सेवा में अपना जीवन समर्पित कर देते है।

यह विचार संघ के खंड संघ चालक रंजित सिंह ने सरस्वती शिशु मंदिर में जिला प्रचारक अमरेस के अयोध्या स्थानांतरित होने पर आयोजित विदाई समारोह मे व्यक्त किये। इसी क्रम में जिला सेवा प्रमुख रमेश अवस्थी ने कहा कि अमरेस का 6 वर्ष के कार्यकाल का पता ही नहीं चला कि कब शुरू हुआ और कब खत्म। उन्होने कहा कि मिलनसार स्वभाव के अमरेश ने संघ कार्य का विस्तार गाँव-गाँव तक किया। उनसे हम सब को हमेशा प्रेरणा मिलती रहेगी। इस अवसर पर ग्यान प्रकाश जायसवाल, विवेक पांडेय, संदीप दीक्षित, जगमोहन यादव, राजू मोर्या, स्वामी मोर्या, लल्लन वर्मा आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट- राजेश यादव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here