सावन की दूसरी सोमवारी को वासुकिनाथ धाम में बोल बम की सुनामी

0
145

बिहार(रा.ब्यूरो)- मासव्यापी श्रावणी मेले के दूसरी सोमवारी को वासुकिनाथधाम में केसरिया रंग की सुनामी देखने को मिला। पूरे मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं की चहल-पहल देर रात से ही दिखाई दे रही थी। सभी श्रद्धालु ने देर रात से ही कतारबद्ध होना प्रारंभ कर दिया था। षिवगंगा के किनारे सभी श्रद्धालुगण देर रात से ही दिखाई दे रहे थे।

दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार पूरी रात मेला के विधि व्यवस्था पर नजर बनाये हुये थे। उपायुक्त द्वारा देर रात्रि तक सोमवारी को लेकर वासुकिनाथ धाम आने वाले श्रद्धालु को सुगमता पूर्वक जलार्पण करने के लिए अधिकारियों को महत्वपूर्ण दिशा निर्देष लगातार दिये जा रहे थे।

दुमका के पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल भी मेला में प्रतिनियुक्त पुलिस अधिकारियों के माध्यम से श्रद्धालुओं के बारे में लगातार जानकारी प्राप्त करते दिखे। दूसरी सोमवारी को वासुकिनाथ धाम में श्रद्धालुओं की सैलाब को दिखते हुये जिला प्रषासन द्वारा सारी तैयारियां पूर्व से ही कर ली गई थी। बाबाधाम  में श्रद्धालुओं के जलार्पण की संख्या को देखकर जिला प्रषासन को पहले ही अनुमान लग चुका था कि वासुकिनाथधाम में श्रद्धालुओं की सुनामी आने वाली है। सभी प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी एवं पुलिस अधिकारी अपने-अपने कर्तव्य स्थल पर उपस्थित दिखे।

जिला प्रषासन सूचना जनसम्पर्क विभाग द्वारा बनाये गये रौषनी युक्त एवं हवादार सभी निःषुल्क आवासन केन्द्र पूरी तरह से श्रद्धालुओं से भरा दिखाई दे रहा था। सभी श्रद्धालु प्रातः बाबा पर जलार्पण करने के लिए विश्राम कर रहे थे। पूरे कांवरिया रुट लाइन एवं मेला क्षेत्र श्रद्धालुओं से भरा प्रतीत हो रहा था।

सूचना जनसम्पर्क विभाग के सभी आवासन केन्द्र एवं षिविर में सूचना सहायता कर्मी हर दिन की भांति दूसरी सोमवारी को भी श्रद्धालुओं की सेवा में देखा गया। ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम देर रात्रि से ही बिछड़ो से मिलाया जा रहा था।

प्रातः 2ः39 मिनट पर बाबा का पट खुला। पुरोहित पूजा के उपरांत 3ः23 मिनट पर जलार्पण प्रारंभ हुआ। सभी श्रद्धालु कतारबद्ध होकर शांतिपूर्ण ढंग से बाबा पर जलार्पण कर रहे थे। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा कर्मी एवं पुलिस कप्तान मयूर पटेल मंदिर प्रांगण में उपस्थित थे।

दुमका के उपायुक्त मुकेष कुमार ने प्रषासनिक भवन स्थित कंट्रोल रुम से पूरे विधि व्यवस्था का जायजा लिया। उपायुक्त ने प्रतिनियुक्त सुरक्षा कर्मीयों को निदेष दिया कि श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए ध्यान रखें कि महिला एवं पुरुष के कतार में किसी प्रकार की घुसपैठ नही हो सके। सोमवारी को देखते हुए डाक बम, शीघ्र दर्षनम, बोल बम के लिए अलग-अलग द्वार बनाये गये है। सभी श्रद्धालु बनाये गये तीन द्वार से ही जलार्पण के लिए जाये।

पुलिस अधीक्षक मयूर पटेल ने पूरे रुट लाइन का भ्रमण किया एवं श्रद्धालुओं को कतारबद्ध कराया। इस दौरान पुलिस अधीक्षक ने सभी पुलिस पदाधिकारियों को निदेष दिया कि पूरी इमानदारी से अपनी ड्यूटी करे। किसी भी प्रकार की कोताही बरतने वाले पुलिस अधिकारी पर कार्रवाई की जायेगी।

वासुकिनाथ स्थित षिवगंगा में एनडीआरएफ की टीम देर रात से ही दिखाई दे रही थी। टीम पीआरडी अपने कर्तव्य पर थे। सभी स्वास्थ्य शिविरों में स्वास्थ्य कर्मी देर रात से उपस्थित थे।

रिपोर्ट-धनंजय कुमार सिंह⁠⁠⁠⁠

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here