तीन महीने में ही उखड़ने लगी ४० लाख की लागत से बने अंत्येष्टि भवन की दीवारें

0
120

उन्नाव(ब्यूरो)- नगर पंचायत न्योतनी में घोटालो का सिलसिला थमा नही था कि 40 लाख की लागत से बनने वाले अंत्येष्टि स्थल की दीवार घोटाले के चलते तीन माह में ही दरक गई, गुड़वत्ता व मानक को दरकिनार कर भ्रष्टाचार करने का एक औऱ मामला संज्ञान में आया है |

नगर पंचायत न्योतनी में तीन माह पहले ही अंत्येष्टि स्थल की रंगाई पुताई कर कोरम पूरा किया गया था लेकिन नगर पंचायत के सभासदों की माने तो अन्त्येष्टि स्थल का निर्माण कार्य का ठेका अधिशासी अधिकारी के रिश्तेदार मनोरमा मेशर्स को दिया गया था, जिसमे चेयरमैन व अधिशासी अधिकारी की मिली भगत और कमीशन खोरी के चलते मानक व गुड़वत्ता को दरकिनार कर सरकारी धन का बंदरबांट किया गया है| जिसमे अंत्येष्टि स्थल की बाउंड्री बिना सरिया औऱ पिलर डाले ही सिर्फ ईंटो के सहारे खड़ी कर मानक की धजिया उड़ाई गई और अधूरे अंत्येष्टि स्थल का काम पूरा फीखे 40 लाख का भुगतान कर दिया गया और शिकायत के बाद भी प्रशासन मौन बना रहा औऱ तो और अंत्येष्टि स्थल पर बिना मिट्टी डाले हुए ही 13 लाख का अतिरिक्त भुगतान भी कर दिया गया जबकि ये मामला पूर्व सरकार में मुख्यमंत्री तक पहुँचने के बाद भी जांच के नाम पर घोटाले दर घोटाले अधिशासी अधिकारी कर्ती रही और जांच करने वाले अधिकारी भी मोटी रकम लेकर आदेशो की धज्जियां उड़ाते रहे ।

भुगतान को कराने के लिए जैसे तैसे अंत्येष्टि स्थल का अधूरा मिर्माण कर पूरा दिखा दिया गया और भुगतान भी करा दिया गया| गुडवत्ता व मानक को के अनदेखी को छुपाने के लिए जल्दी जल्दी रंगाई पुताई कराकर लाखो रुपये हजम कर लिए गए| जिसके चलते 40 लाख की लागत से बने अंत्योष्टि स्थल की दीवार 3 महीने में ही दरकने लगी है जबकि इससे पहले 26 मई को न्योत्नी के इमरान अहमद के साथ लगभग एक दर्जन सभासदों ने ऑरटीआई के तहत जानकारी हासिल की थी| जिसमे ईओ ने पुरानी लाइटों को खराब दिखा नई लाइटो के लिए 13 लाख का भुगतान 9 मई को ईओ व चेयरमैन ने कर दिया और चलती हुई लाइटो को कूड़े के ढेर में डाल दिया| 9 मई को ही नाला सफाई के नाम पर सवा लाख रुपये का भुगतान मोहान के एक ठेकेदार को कर दिया गया था, जिसका 26 मई को आरटीआई के तहत खुलासा हुआ। टाउन के इमरान अहमद ने सभासदों के साथ SDM, डीएम से लेकर मुख्यमंत्री को प्रत्यावेदन देकर लाखो के घोटालो की जांच व कार्यवाही की मांग की थी, जिस पर जिलाधिकारी अदिति सिंन्ह ने अपर जिलाधिकारी को जांच के आदेश दिए थे ।

अभी LED व नाला सफाई में हुए घोटालो की जांच हो नही पाई थी कि 40 लाख की लागत से बने अंत्येष्टि स्थल की दीवारों के दरकने का मामला प्रकाश में आया है| इन करोड़ो के घोटालो पर कार्यवाही न होने से जनता में आक्रोश व्याप्त है ।

रिपोर्ट- राहुल राठौर 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here