सूखा राहत का पैसा बांटने में तहसील प्रशासन की चोरी

0
39

चकलवंशी/उन्नाव(ब्यूरो)- हसनगंज क्षेत्र के अन्तर्गत दर्जनों गांवों में सूखा राहत का पैसा बांटने में तहसील प्रशासन द्वारा पिछली सरकार के शासन काल में भीषण घोल मेल किया जा चुका है। तहसील के चक्कर काटते-काटते पीड़ित किसानों के जूते घिस गये हैं। लेकिन खातों में आज तक पैसा नहीं पहुंचा है।

अब जब प्रदेश में सरकार बदल चुकी है। और प्रदेश मुखिया द्वारा हर बिभागों की जांच कराये जाने का आदेश दिया जा चुका है। उसी के बाद शासनादेश से हड़बडा़ए तहसील प्रशासन द्वारा पुनः एक बार फिर लेखपालों के जरिए उन किसानों को चिन्हित करके कागज लेने का काम किया जा चुका है। जिनके खातों में अब तक पैसा नहीं पहुंचा है।

इस शासनादेश से गांवों के गरीब किसानों में उम्मीदें जगी थी कि अब हम लोगों के खातों में पैसा आयेगा। लेकिन सब बेकार छूटे हुए किसानों के खातों में आज तक पैसा न पहुचने से लोगों को विश्वास हो गया है| कि इस सरकार या उस सरकार मे कोई भी फर्क नहीं है।

गरीबों की सुनने वाला कोई नहीं है। क्षेत्र के ग्राम हमीरपुर मवई बृम्हनान ताजपुर शीर्श कन्हर लगलेसरा पनापुर पैगम्बरपुर रावतपुर सरौहां बीरुगढी़ मुंशीगंज बजेहरा अहरा  मुस्तफाबाद हरीगढी़ पामाखेडा़ कोटरा इत्यादि दर्जनों गांवों के किसानों के साथ तहसील प्रशासन द्वारा बड़े पैमाने पर गड़बड़झाला किया गया है।

क्षेत्र का किसान ऊपर वाले की मार झेलते झेलते एकदम बर्बाद एवं हताश होकर क्षेत्र से पलायन करने के लिए मजबूर होकर रह गया है।

रिपोर्ट-जीतेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here