शो पीस बनकर रह गये है ये तालाब

0
111

फतेहपुर चौरासी/उन्नाव(ब्यूरो)- क्षेत्र फतेहपुर चौरासी में नदी तालाबों व् पोखरों में पानी की जगह धूल उड़ती नजर आ रही है । पानी के अभाव में पशु पंछी व् जानवर प्यास से ब्याकुल हो दम तोड़ रहे हैं किंतु गर्मी शुरू हो जाने के बाद भी शासन प्रशासन अभी तक तालाबों में पानी नहीं भरा सका है ।

क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में लाखों रुपया खर्च कर तालाबों ,मॉडल तालाबों का निर्माण कराया गया था । इनके बनवाने के पीछे मंशा यही थी कि गावँ और आसपास के जानवरों एवं पशु पंछियों को पीने का पानी आसानी से उपलब्ध हो सके किन्तु सरकार की यह मंशा ग्राम पंचायतों और प्रशासन की उदासीनता से कहीं भी पुरी होती नजर नहीं आ रही है ।

क्षेत्र के तालाबों में पानी की जगह धूल उड़ती नजर आ रही है । नदियों में धारा की जगह लोगों नें फसलें भी बो रख्खी है ।इतना ही नहीं जहाँ कहीं काफी पुरानें तालाब और पोखर हैं वह भी सूखे पड़े हैं । गंगा की धारा भी सिमट कर पतली हो गयी है ।

पानी न होनेँ का खामियाजा सबसे अधिक जंगली पशु पंछियों एवं आवारा घूमते जानवरों को उठाना पड़ रहा है जो प्यास से ब्याकुल हो दम तोड़ रहे हैं । क्षेत्र के ग्राम दबौली,झुलूमऊ ,लवानी, ,हफीजाबाद, बरुआघाट ,शाहनगर ,मझेरिया कला ,जमुरुद्दीन पुर ,भड्सर नौसहरा ,दोस्तपुर शिवली आदि ग्रामों का सर्वेक्षण करनें पर देखने को मिला कि कई कई लाख रुपया खर्च कर बनाये गए तालाबों में पानी नहीं है और न ही इनमें कभी पानी ही भराया गया है ।

इन ग्रामों के लोगों नें बताया कि प्यास से ब्याकुल हो पशु पंछी दम तोड़ रहे हैं । ग्रामीणों ने शासन प्रशासन से मांग की कि भीषण गर्मी में इन तालाबों को भरवाया जाये जिससे पालतू व जंगली पशुओं की प्यास बुझ सके और पर्यावरण संतुलन बना रहे।

रिपोर्ट-रघुनाथ प्रसाद शास्त्री/रामजी गुप्ता 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here