इस साल मुहर्रम पर इलाहाबाद में नहीं निकलेंगे ताजिया

0
861

Allahabad

इस वर्ष दशहरा और मोहर्रम लगभग साथ ही पड़ रहे है, मुहर्रम में ताज़ा और नवरात्री और दशहरा में दुर्गा पूजा के जुलूस सड़कों पर निकलते हैं और ऐसे में देश के जो हालात हैं उनको देखते हुए पुलिस के लिए कानून व्यवस्था बनाये रखना एक बड़ी चुनौती साबित हो रहा है, पर इलाहबाद की पुलिस को इस जद्दोजहद से छुटकारा मिल गया है |

शहर की दो प्रमुख ताजिया समितियों और हिन्दू संगठनों मुलाकात की और आपसी सौहार्द दिखाते हुए 23 और 24 तारिख को दुर्गा पूजा और दशहरा को ध्यान में रखते हुए ताज़ा न निकलने की घोषणा की है और कहा कि समिति ने यह फैसला आपसी सौहार्द बढ़ने और हिन्दू भाइयों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए किया है |

बड़ा ताजिया मुहर्रम समिति और बुड्ढा ताजिया मुहर्रम समिति मुहर्रम के दौरान हर साल सबसे बड़ा ताजिया जुलूस निकालती हैं जिसमे करीब 2 लाख से भी ज्यादा लोग शामिल होते हैं, यह दोनों सहर की सबसे पुरानी मुहर्रम समितियों में से एक है |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

eighteen − 6 =