शिव विवाह के साक्षी बने हजारों लोग

0
119


विद्यापतिनगर(समस्तीपुर)
– “गौरा न सुतलन्न पुरैनी के पात पर सपना देखलन अजगुत अहिये हे माई पर हे पड़ोसिन शिव कइलन दोसरो विहा’’ व ’’परछन चलनन सासु मनाई नाग छोड़लनन फुफकार अइसन बौराहा बरसे गौरी न बियाहब मोरो गौरी रहत कुमार मोछ जे पाकल दादी टिलेकन गोड़वा में पटेलण बेयार’’ सरीखे शिव विवाह गीतों व नचारी की अनूगूंज से वातावरण भक्तिमय बना रहा|


मौका था विद्यापतिधाम मंदिर परिसर स्थित विवाह भवन में महाशिवरात्री के अवसर पर भगवान भोलेशंकर व माता पार्वती विवाहोत्सव का| इस ऐतिहासिक धार्मिक महत्व वाले पल का गवाह बनने के लिए शुक्रवार की शाम से ही आसपास के इलाके से भक्त श्रद्धालुओं के आने का शिलशिला देर रात तक जारी रहा| महिलाओं व युवतियों ने अपने अलग-अलग जत्थे के साथ भगवान शिव की बारात का स्वागत परीछन के वैदिक रीति रिवाज के अनुसार किया| इसके बाद शिव विवाह गीतों व नचारी की अनुगूंज के बीच शिव का प्रतिरूप बने राम चौरसिया व माता पार्वती की प्रतिरूप बने गोविंद गिरी ने वैदिक मंत्रोचार व रीति रिवाज के अनुसार वरमाला डालकर विवाहोत्सव की रस्म पूरी की| बारात में शामिल ब्रह्मा (निराला पंडित), विष्णु(जितेंद्र गिरी), इन्द्र (सुजीत गिरी), नारदजी (दीनदयाल गिरी), नन्दी (संजय गिरी) की भूमिका बखूबी सराही गयी| बारात का स्वागत स्थानीय मुखिया वीणा देवी, पूर्व मुखिया गणेश गिरी, रंजू गिरी, रत्न शंकर भारद्वाज, दीपक गिरी आदि मौजूद थे|

रिपोर्ट- रंजीत कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here