तीन तीन मीटर लंबे और फूटो गहरे गड्ढे

0
106

उन्नाव(ब्यूरो)- एक तरफ सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ फरमान जारी कर रहे है कि आगामी 15 जून तक प्रदेश की सभी सड़के गड्ढा मुक्त होंगी लेकिन उन्नाव जनपद में इस फरमान का जरा भी असर नही दिख रहा है ,लखनऊ बांगरमऊ रोड पर तीन तीन मीटर लंबे और फूटो गहरे गड्ढे है जिसमे आयेदिन राहगीर गिरकर चुटहिल होते रहते है|

प्रदेश की राजधानी को देश की राजधानी से जोड़ने वाला लखनऊ बांगरमऊ राजमार्ग अपने खस्ता हाल दिनों की गिनती गईं रहा है और योगी के गढ्डा मुक्त सड़क के फरमान को पुरा करने वाले अधिकारियो कि बाट जोह रहा है ,जब कि पूर्व सरकार में नई सरकार बनने से पूर्व राजमार्ग के मरम्मत के लिए करोड़ो रूपये स्वीकृत हुए थे जिससे मरम्मत तो क्या हसंनगंज बस्ती में मरम्मत कार्य की गिट्टी तक न पहुच सकीय थी जिससे सड़क पर गहरे गहरे गड्ढे है ओर आये दिन राहगीरों को अपनी गिरफ्त में ले चोटहिल करते रहते है मजबूरिवस राहगीर जान जोखिम में डाल रास्ते से निकलने पर मजबूर है |

मालूम हो कि लखनऊ बांगरमऊ रोड पर स्थित हसनगंज कस्बे में सड़क गहरे गड्ढो में तब्दील हो गई है जब कि कस्बे के बाहर ढाबे तक पूर्व सरकार में मरमत कार्य हुआ था वो भी मानक के विरुद्ध।

बताते चले कि ये राजमार्ग लखनऊ से दिल्ली जाने के लिए वाया बांगरमऊ सबसे सीधा रास्ता है जिस पर आए दिन बड़े बड़े जनप्रतिनिधि आते जाते रहते है और गड्ढो से होकर गुजर जाते है लेकिन इन गड्ढो को सही कराने का कोई कदम नही उठाया जाता है जिससे राहगीरो को पैदल तो दूर दो पहिया ओर चार पहिया वाहन से भी गुजरना मुश्किल बना हुआ है |

 

जब कि उक्त मार्ग को पूर्व सरकार में मरम्मत कार्य के लिए सूरज बिल्डर नाम की संस्था को दिया गया था जिसमे कार्य के दौरान लखनऊ मंडल के ए0 सी0 ए0 के0 श्ररीवास्तव ने हसंगनज में फायर स्टेशन पर रोड की खुदाई करा मशीन द्वारा जांच करा गुडवत्ता की जांच की थी जिस पर मानक के अनुरूप गुड़वत्ता में कमी पा अधिशासी अभियंता एस0 के0 सिंन्ह को मानक के अनुरूप लारी कराने के निर्देश दिए थे ,श्री श्रीवास्तव ने बताया था कि उक्त रोड की मरम्मत हेतु शासन से 5173.50लाख रूपये स्वीकृत किया गया है|

जिसमे लखनऊ से बांगरमऊ तक रोड पर 7 मीटर चौड़ाई में 14 से0 मीटर ऊंचाई में गिट्टी मसाला डाल कर मरम्मत करनी थी लेकिन ठेकेदार द्वारा हसनगंज कस्बे के बाहर स्थित ढाबे तक ही रोड बना कर छोड़ दी और कस्बे में 14 से मीटर तो क्या मरम्मत की एक गिट्टी तक न पहुच पाई और सड़क ज्यो की तयों पड़ी रही और भारी भरकम वाहनों के निकलते सड़क पूर्ण रूप से गड्ढो में तब्दील हो गई है जिससे रोज राहगीर अपनी जान जोखिम में डाल निकलने को मजबूर है ।

रिपोर्ट-राहुल राठौर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here