आज गब्बर ( अमज़द खान ) की पुण्यतिथि है, जानिए उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें

0
660

Amzad khan
आज के ही दिन ‘गब्बर’ अमजद खान इस दुनियां को अलविदा कह चले गये थे. अमजद खान ने अपने बीस साल के करियर में लगभग 130 फिल्‍मों में काम किया. अमजद खान ने वर्ष 1957 में फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नही’ से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरूआत की थी. इसमें उन्‍होंने एक बाल कलाकार की भूमिका निभाई थी. इसके बाद उन्‍होंने अपने किरदारों में बदलाव किया |
वर्ष 1980 में रिलीज हुई फिल्‍म ‘कुर्बानी’ में उन्‍होंने अपने हास्‍य किरदार से दर्शकों का खूब मनोरंजन किया | इसके बाद 1981 में फिल्‍म ‘लावारिस’ में उन्होंने अमिताभ बच्‍चन के पिता का किरदार निभाया दर्शकों ने उनके काम की खूब सराहना की | वर्ष 1979 में फिल्‍म ‘दादा’ के लिए सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, इसके बाद उन्‍हें फिर वर्ष 1981 में फिल्‍म ‘यराना’ के लिए दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्मफेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था |
फिल्म शोले में गब्बर की भूमिका ने उन्हें बहुत ख्याति दिलाई इस फिल्म में गब्बर के उनके किरदार को लोगों ने इतना पसंद किया की उसके बाद से लोग उन्हें उनके नाम की जगह गब्बर कहकर बुलाने लगे | शोले में गब्बर के किरदार के लिए पहले डैनी को चुना गया था पर जब उन्हों इनकार क्र दिया तो अमजद खान ने इस भूमिका को निभाया पहले तो अमज़द खान इस भूमिका को निभाने से डर रहे थे पर बाद में जब उन्होंने इस किरदार को निभाया टी उनके इस अभिनय ने उन्हें फिल्म जगत में एक अलग ही मुकाम पे पहुंचा दिया |

आइये देखते हैं शोले का वो मशहूर डायलाग…..

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY