10 बड़े-बड़े जानलेवा रोगों से आपके जीवन की रक्षा करता है पुदीना

0
1314

आजकल गर्मी का मौसम चल रहा है और गर्मियो में हमारे शरीर को अनेकों-अनेक बीमारियाँ घेर लेती है लेकिन हम इनसे बचने के उपाय भी लगतार खोजते रहते है | गर्मियों में अक्सर आपने हर जगह पर पुदीने के शरबत मिलते हुए देखें होंगे लेकिन क्या आपको पता है कि पुदीना के केवल शरबत में ही नहीं बल्कि इसके और भी अनेकों फायदें है हमारे जीवन में | आइये जानते है –

पुदीना-
पुदीना एक बहुत ही सुगंध को देने वाला और उपयोगी औशधि है | आयुर्वेद के अनुसार यह एक स्वादिष्ट, रुचिकर पाचनक्रिया को मजबूत करने वाला और उल्टी आदि रोगों को जड़ से समाप्त कर देने वाली औशधि होती है | पुदीने के अनेकों अनेक लाभ है लेकिन हम यहाँ पर इसके 10 प्रमुख लाभों के बारे में बता रहे है –

एक औशधि के रूम में पुदीने के प्रयोग –
मलेरिया में –
अगर किसी को मलेरिया हो गया है और उस ब्यक्ति को इससे लाभ नहीं मिल रहा है तो उसे चाहिए कि वो पुदीना एवं तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम नियमित तौर पर ले या फिर पुदीना और अदरक के रस को मिलाकार एक-एक चम्मच सुबह-शाम पिए | ऐसा करने से उसे निश्चित ही लाभ मिलेगा |

वायु एवं क्रमि में लाभ –
जो लोग गैस या फिर क्रमि नामक समस्या से ग्रसित है उन्हें चाहिए कि, “पुदीना के दो चम्मच रस में एक चुटकी काला नमक डालकर पीने से गैस तथा वायु एवं पेट के क्रमि नष्ट हो जाते है और ब्यक्ति को लाभ मिलता है |

पुराने सर्दी जुकाम और न्यूमोनिया में लाभ-
पुराने सर्दी जुकाम या फिर जुकाम बिगड़ जाने पर न्युमोनिया हो जाने पर पुदीना के रस की दो-तीन बूँदें नाक में डालने एवं पुदीना तथा अदरक के एक-एक चम्मच रस में शहद मिलाकर दिन में 2 बार ही पीने से लाभ मिलता है |

अनार्तव-अल्पार्तव –
महिलओं में मासिक धर्म न आने पर या फिर कम आने पर अथवा वायु एवं कफ दोष के कारण बंद हो जाने पर पुदीना के काढ़े में गुड एवं चुटकी भर हींग डालकर पीने से लाभ होता है | और इससे इतना ही नहीं कि केवल इसी में ही लाभ मिलता है साथ ही साथ कमर के दर्द में भी आराम मिलता है |

आंत का दर्द –
अपच, अजीर्ण, अरुचि, मंदाग्नि, वायु आदि रोगों में पुदीना के रस में शहद मिलाकार पियें ऐसा करने से आपको लाभ मिलेगा | या फिर आप पुदीने का अर्क भी ले सकते है |

दाद-
अक्सर लोग दाद से काफी परेशान हो जाते है क्योंकि जहां पर भी किसी को भी दाद हो जाती है उसे वहां खुजली होती है और अधिक खुजली करने पर वहां से कभी कभी रक्त श्राव भी हो जाता है | दाद से बचने के लिए आपको चाहिए कि आप पुदीने के रस में थोडा सा नीम्बू मिला लें और अब इसे अच्छी तरह से फेंट ले और जब ये दोनों अच्छी तरह से मिल जाए तो इन्हें जहां भी दाद हुई है वहां पर लगा लें | दाद एक दम से मिट जायेगी |

उल्टी,दस्त और हैजा –
अगर किसी को उल्टी हो रही है और रुकने का नाम नहीं ले रही है या फिर दस्त पड़ रहे है तो ऐसे में आपको अत्यधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है | पुदीने के रस में नीम्बू का रस, अदरक का रस एवं शहद का रस मिलाकर पीने से उल्टी, दस्त और हैजा में आपको तुरंत आराम मिलेगा |

बिच्छू का दंश –
अगर किसी को कभी बिच्छू दंश मार दें तो ऐसे में आप तुरंत पुदीने का रस निकालकर वहीँ लगाए जहां पर बिच्छू ने दंश मारा है आपको आराम मिलेगा | या फिर आप पुदीने के रस में मिश्री मिलाकर उस ब्यक्ति को पिला सकते है जिसे बिच्छू ने दंश मारा है उसे आराम मिलेगा | यहाँ पर हम आपको यह भी बता देते है कि यह प्रयोग तमाम जहरीले जंतुओं के दंश के उपचार में काम आ सकता है |

हिस्टीरिया-
प्रतिदिन पुदीने के रस को निकालकर उसे थोडा सा गरम करके सुबह शाम नियमित तौर पर पीने से हिस्टीरिया में आराम मिलता है |

मुख दुर्गन्ध में है फायदेमंद –
जिन लोगों के मुख से दुर्गन्ध आती है उन्हें अक्सर अपने मित्रों या फिर प्रियजनों के सामने कभी कभी लज्जित होना पड़ता है | मुंह की दुर्गन्ध को मिटाने का सबसे उत्तम उपाय है कि पुदीने के रस को थोडा सा पानी में मिलाएं और थोड़ी देर तक मुंह भरके इधर-उधर हिलाते रहे उसके बाद उगल दें | या फिर आप पुदीने के काढ़े का घूँट मुंह में भरकर रखें और कुछ देर तक इसे भी आप मुंह ही रखकर इधर-उधर हिलाते रहे और बाद में इसे भी उगल दें | आपको आराम मिलेगा |

कैसे करें पुदीने का प्रयोग –
पुदीने के ताजे रस को लेने की मात्रा है 5-20 ग्राम  तथा इसके पत्ते के चूर्ण को लेने की मात्रा है 3-6 ग्राम, इसका काढ़ा आप मात्र 10 से 40 ग्राम ही ले सकते है और पुदीने के अर्क को भी लेने की मात्रा है 10 से 40 ग्राम सबसे बड़ी बाद पुदीने के बीज का तेल लेने की मात्रा है मात्र आधी बूँद से तीन बूँद तक |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here