प्रदेश की कानून व्यवस्था चाक-चौबंद करने के लिये परम्परागत पुलिसिंग पर जोर : डीजीपी

0
185

लखनऊ ब्यूरो : पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह ने प्रदेश की कानून व्यवस्था चाक-चौबंद करने के लिये परम्परागत पुलिसिंग पर जोर दिया है। डीजीपी ने सोमवार को जोन में तैनात एडीजी, रेंज में तैनात आइजी, एसएसपी के साथ अपराध नियंत्रण के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की। साथ ही उन्होंने गोवध करने वालों पर भी सख्त कार्रवाई करने की बात कही। उन्होंने कहा कि इन मामलों में अब एनएसए और गैंगस्टर एक्ट के तहत केस दर्ज किया जाएगा

उन्होंने कहा, गोवध एवं वध के लिए गोवंश के परिवहन पर सख्ती से रोक लगाई जाए। ऐसे अपराधियों के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, गैंस्टर एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। न्यायालयों में विचाराधीन प्रकरणों में पैरवी कर परिणाम तक पहुंचा जाए। माफिया व गिरोहबंद अपराधियों की जमानतें निरस्त करायी जाएं। मॉल्स, सार्वजनिक स्थानों में सादी वर्दी में महिला सिपाही व अधिकारियों के दस्ते तैनात किये जाएं |

साथ ही उन्होंने कहा कि माफिया एवं अन्य प्रभावशाली अपराधियों की सूची बनायी जाए और उनके जमानतदारों का सत्यापन कराया जाए। इसके अलावा लंबे समय से जिलों में तैनात उपनिरीक्षकों को जोन के बाहर स्थानांतरित करने का निर्देश दिया है। कम्युनिटी पुलिसिंग को बढ़ावा देने की हिदायत भी दी है। उन्होंने कहा कि स्थानांतरण नियमावली के विरुद्ध जिलों में तैनात उपनिरीक्षकों को जोन के बाहर स्थानांतरित किया जाए। अपराध में शामिल या अपराधियों से संबंध रखने के लिए चिह्नित पुलिस कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी |

चौराहों के 25 मीटर तक ठेले न लगें: गाड़ियों पर मानक विपरीत लगी नंबर प्लेट, हूटर-सायरन, लाल-नीली बत्तियां, झंडे, तख्तियां हटाने का अभियान चलाया जाए। चालकों को सीट बेल्ट लगाने के लिए प्रेरित किया जाए। हेलमेट पहनना सुनिश्चित किया जाए। गाडिय़ों से काली फिल्म हटायी जाएं। यातायात पुलिस चुस्त-दुरुस्त, स्मार्ट वर्दी में रहे। वसूली की शिकायत पर रोक लगाई जाए। चौराहों से से 25 मीटर ठेले, वाहन न खड़े होने दिये जाएं। विवादों का ब्योरा तैयार करें: डीजीपी ने कहा कि क्षेत्र के विवादों को रजिस्टर में दर्ज कर इनको हल कराने की कोशिश हो। आवश्यकता पड़ने पर निरोधात्मक कार्रवाई की जाए ताकि बलवा, हत्या जैसी वारदात न हो पाए। अधिकारी जमीनों पर कब्जा करने वालों की सूची तैयार करें। पांच वर्षों में जमीन, प्लॉट पर कब्जा करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। आतंकी गतिविधियों पर नजर रखें: डीजीपी ने कहा कि भीड़-भाड़ वाले स्थानों की नियमित निगरानी कराई जाए। ताकि कोई आतंकवादी घटना न हो सके। दुकानदारों इत्यादि का सहयोग लिया जाए। स्थानीय सहयोग से सीसीटीवी, चौकीदार का इंतजाम कराया जाए। त्योहारों को बारे में अभी से अध्ययन कर लिया जाए। विवादित बिंदु को हल कराया जाए

रिपोर्ट – मिंटू शर्मा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here