देव दीपावली महोत्सव पर एनडीआरएफ के शहीदों को दी गई श्रदांजलि

वाराणसी (ब्यूरो) –  सदियों से चलता आ रहा देव दीपावली का महोत्सव वाराणसी के 84 घाटों पर दीपों की जगमगाती हुई रोशनी में बड़े धूम धाम से मनाया गया I इस बार की देव दीपावली बहुत महत्वपूर्ण रही क्योकि इस बार की देव दीपावली सीमा पर तैनात होने वाले केंद्रीय पुलिस बल के जवानों को समर्पित थी I इसी मौके पर गंगा सेवा निधि द्वारा एनडीआरएफ के शहीदों को श्रदांजलि दी गई I विगत वर्ष 11 एनडीआरएफ के आरक्षी भवानी शंकर और आरक्षी राम मिलन चौहान अपने कर्तव्यो का निर्वहन करते हुए वाराणसी के फ़्लाइ ओवर हादसे मे शहीद हुए थे , इन केन्द्रीय पुलिस बलों के शहीद जवानों की याद में वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पर अभिनेता अनिल कपूर द्वारा आकाश दीप जलाकर शहीद जवानों को भागीरथ शौर्य सम्मान दिया गया तथा उनके परिवार के लोगो को सम्मानित किया गया I

इस अवसर पर श्री अलोक कुमार सिंह, उप महानिरीक्षक 11 एनडीआरएफ ने बताया की “ ऐसे शुभ अवसरों पर इस प्रकार के सम्मान से केन्द्रीय पुलिस बल के जवानों का होसला अफजाई होता हैं और देव दीपावली के इस पर्व पर सभी केन्द्रीय पुलिस बल के जवानों को बधाई दी” I श्री सुरजीत कुमार सिंह ,सेक्रेटरी ,गंगा सेवा निधि, ने एनडीआरएफ के काम की सराहना करते हुए सभी जवानों को देव दीपावली की शुभकामनाये दी I इसके अतिरिक्त्त अपनी पूरी निष्ठा के साथ देव दीपावली के इस महोत्सव पर आये लाखों श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए एनडीआरएफ के जवान वाराणसी के सभी मुख्य घाटों पर तैनात रहे । पिछले वर्ष की भांति श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए एनडीआरएफ ने इस बार 4 टीमों को विभिन्न घाटों जैसे दशाश्वमेध घाट, अस्सी घाट राजघाट और नजदीकी घाटों पर श्रद्धालुओं की सुरक्षा में गंगा नदी में तैनात किया ।

इसके अतिरिक्त एनडीआरएफ की मेडिकल टीम द्वारा विभिन्न घाटों पर श्रद्धालुओं के लिए चिकित्सा शिविर भी लगाए गए जहाँ घायलों का निशुल्क उपचार व दवा का वितरण किया गया I एनडीआरएफ की 4 टीमें जिसमे 20 नावों और लगभग 120 बचावकर्मियों के साथ वाराणसी के प्रमुख घाटों पर तैनात रही । इन प्रत्येक टीमों में गोताखोर, पैरामेडिक्स, डीप डाइविंग सेट, लाइफ जैकेट, लाइफ बॉय व अन्य बचाव उपकरणों के साथ देव दीपावली के कार्यक्रम के दौरान घाटों पर तैनात रहे । देव दीपावली के इस अद्भुत नज़ारे को देखने के लिए देश-विदेश से लाखो लोग घाटों पर उपस्थित हुए तथा किसी भी अप्रिय घटना के होने पर बहुमूल्य मानव जीवन को बचाने के लिए एनडीआरएफ के प्रशिक्षित बचावकर्मी उपस्थित रहे I

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here