उत्तराखंड: त्रिवेंद्र सिंह रावत होंगे नए मुख्यमंत्री, बीजेपी विधायक दल की बैठक में हुआ फैसला

0
176


देहरादून (ब्युरो)- उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत भारतीय जनता पार्टी का नया चेहरा होंगे। आपको बता दें कि आज देहरादून में विधायकों ने उन्हें विधायक दल का नेता चुन लिया है। आपको बताते चले कि इस रेस में प्रकाश पंत और सतपाल महाराज भी शामिल थे लेकिन विधायक दल ने अपना नेता त्रिवेंद्र सिंह रावत को चुना है।

आज देहरादून में हुई पार्टी की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र सिंह तोमर, सरोज पांडे के अलावा उत्तराखंड में पार्टी मामलों के सलाहकार श्याम जाजू भी शामिल हुए थे। गौरतलब है कि उत्तराखंड विधानसभा में 70 सीटे हैं जिनमें से हाल ही में संपन्न हुए चुनाव में भाजपा ने 57 सीटें जीती थी जबकि सत्ताधारी कांग्रेस को सिर्फ 11 सीटों पर ही जीत मिली थी अन्य दो सीटें निर्दलीय विधायकों ने जीती थी।

उत्तराखंड में कृषि मंत्री रह चुके हैं त्रिवेंद्र सिंह रावत-
त्रिवेंद्र सिंह रावत के बारे में आपको बताते चले कि 56 वर्षीय मिस्टर रावत डोईवाला सीट की नुमाइंदगी करते हैं। रावत को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का बेहद करीबी भी माना जाता है। इस समय मिस्टर रावत झारखंड के यूनिट प्रभारी भी हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत पहली बार वर्ष 2002 में डोईवाला सीट से MLA बने थे तब से ही वह लगातार तीन बार इसी सीट से MLA बनकर विधानसभा पहुंच चुके हैं। वर्ष 2007 से 2012 की BJP गवर्नमेंट में त्रिवेंद्र सिंह रावत सूबे के कृषि मंत्री भी रह चुके हैं।

RSS के प्रचारक रह चुके हैं त्रिवेंद्र सिंह रावत-
आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत RSS के वरिष्ठ प्रचारक भी रह चुके हैं। मिस्टर रावत 1983 से 2000 तक RSS के प्रचारक रहे। उस दौरान वह उत्तराखंड अंचल और बाद में सूबे के संगठन सचिव भी रह चुके हैं। लोकसभा चुनावों के दौरान जिस समय अमित शाह यूपी प्रभारी थे उस समय यूपी के सह प्रभारी त्रिवेंद्र सिंह रावत ही थे, दोनों की ही जुगलबंदी में यूपी में लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी ने 80 में से 73 सीटों पर कब्जा किया था।

झारखंड के भी प्रभारी रह चुके हैं त्रिवेंद्र सिंह रावत-
2014 में ही लोकसभा चुनाव के बाद झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान त्रिवेंद्र सिंह रावत को झारखंड में पार्टी का प्रभारी बनाया गया था। मिस्टर रावत की अगुवाई में हुए इस विधानसभा चुनाव में भी पहली बार भारतीय जनता पार्टी ने पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई थी।

लगातार लगातार मिल रही जीतों से संघ में और पार्टी दोनों में ही मिस्टर रावत का चेहरा लगातार बढ़ता रहा। 2014 में संपन्न हुए लोकसभा और झारखंड विधानसभा चुनाव के बाद मिस्टर रावत को नमामि गंगे समिति का नेशनल कन्वीनर भी बनाया गया था। आपको यह भी बता देते हैं कि मिस्टर रावत के पास एडमिनिस्ट्रेशन चलाने का अच्छा-खासा तजुर्बा भी है इसका प्रमुख कारण यह है कि 2007 से 2012 तक वह सूबे के कृषि मंत्री भी रह चुके हैं।

18 मार्च को होगा शपथ ग्रहण समारोह-
बताते चलें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व वाली उत्तराखंड की नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह 18 मार्च दिन शनिवार शाम 3:00 बजे परेड ग्राउंड देहरादून में होगा। इस शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सहित कई अन्य केंद्रीय मंत्रियों और गणमान्य अतिथियों के शामिल होने की संभावना है। परेड ग्राउंड में शपथग्रहण समारोह से संबंधित सभी तैयारियों को पूर्ण किया जा चुका है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY