दो दिवसीय उद्यान संगोष्ठी/किसान मेले का समापन

0
83

मैनपुरी(ब्यूरो)- किसान परम्परागत खेती का मोह छोड़कर बागवानी की ओर बढ़े, बागवानी से कम लागत में अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है| किसान खेत को व्यापार के रूप में अपनायें नई विधियों का प्रयोग करें, वैज्ञानिक सेांच के साथ नयी-नयी तकनीकी अपनाकर खेती करें। जिस चीज की बांजार में ज्यादा मांग हो वही फसल अपने खेतों में पैदा करें और अधिक मुनाफा कमाकर आत्म निर्भर बने। सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी करें और उनका लाभ लें, पशुपालन को बढ़ावा दें और अपने पशुओं का बीमा अवश्य करायें। प्रधानमंत्री जन-धन येाजना के खाते खुलवायें।

उक्त उद्गार विधान सभा सदस्य भोगाव रामनरेश अग्निहोत्री ने एकीकृत बागवानी विकास मिशन (राष्ट्रीय बागवानी मिशन) के अन्तर्गत दो दिवसीय उद्यान संगोष्ठी/किसान मेला के समापन समारोह के अवसर पर व्यक्त किये। उन्होने कहा कि हमारे देश के लगभग 70.80 प्रतिशत लोग गांव में निवास करते हैं जिसमे से अधिकांश ग्रामीण खेती से जुड़े है खेती किसानो का मुख्य रोजगार है, किसान जितना बड़ा उत्पादनकर्ता है उतना ही बड़ा उपभोक्ता, किसानो के मसीहा हमारे देश के प्रधानमंत्री ने शपथ ग्रहण के बाद सबसे पहले कहा था कि हमारी सरकार किसानों की सरकार है यदि किसान अच्छा उत्पादन करेगा। तो मण्डी में आढ़तियों आदि की जेब खाली नहीं रहेगी।

उन्होने किसानो का आह्वान करते हुए प्रधानमंत्री फसल योजना येाजना किसानो की फसलों के नुकसान की गारन्टी योजना है किसानो को रवी की फसल का बीमा कराने पर बीमित राशि का एक प्रतिशत, खरीफ की फसल हेतु मात्र डेढ़ प्रतिशत किसानो को जमा करना होगा। फसल का नुकसान होने पर शेष धनराशि बीमा कम्पनी द्वारा उपलब्ध करायी जायेगी। उन्होने उपस्थित किसानो से प्रधानमंत्री जन धन योजना के खाते खुलवाये जाने के बारे में जानकारी की तो लगभग 50 प्रतिशत किसानो ने हाथ उठाये। उन्होने किसानो से कहा कि अपने खातें तत्काल बैंक में जाकर खुलवाये इसमें किसी गारन्टर की आवश्यता नहीं, अपना आधार कार्ड लेकर जाये 0 वैलेन्स से खाता खोला जायेगा। उन्होने किसानो से कहा कि हमारे देश में विज्ञान ने बहुत तरक्की है हम घर बैठे एक स्थान से दूसरे स्थान पर बात करते है। उन्होने किसानो से कहा कि अपने पशुओं का बीमा अवश्य करायें| बीमित राषि का 25 प्रतिशत प्रीमियम की राशि किसान को देनी होगी जबकि 75 प्रतिशत राशि सरकार स्वयं वहन करेगी।उन्होने अच्छा उत्पादन करने वाले 11 किसानो को सम्मानित भी किया।

मेले में किसानो से संबंधित उद्यान एवं कृषि तथा पशुपालन, मत्स्य पालन, ग्राम्य विकास, लघु सिंचाई सहकारिता , बैंक, कृषि यंत्र, खाद बीज कृषि रक्षा रसायन आदि विभागो द्वारा स्टाल लगाकर संचालित येाजनाओ की जानकारी दी गयी। वैज्ञानिक डा. विकास रंजन, डा.जगदीश मिश्रा, डा.एस.के.पाण्डेय, आरडी यादव, संजय पाण्डेय, डा. महेन्द्र सहाय, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. येागेश कुमार सारस्वत, किसान यूनियन अध्यक्ष तिलक सिह राजपूत आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम के समापन के अवसर पर जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार ने सभी आगन्तुको को धन्यवाद दिया।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here