अवधीमंच से जुड़े दो वरिष्ठ साहित्यकारों को मारीशस मे अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव सम्मान से सम्मानित

0
97

कादीपुर/सुल्तानपुर (ब्यूरो) – चर्चित साहित्यिक संस्था अवधी मंच से जुड़े जनपद के दो वरिष्ठ साहित्यकारों को मारीशस में अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव सम्मान से सम्मानित किया गया । यह जानकारी देते हुये अवधी मंच के सचिव ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह’रवि’ ने बताया कि मारीशस के हिन्दी भवन लांग माउंटेन में दो सितंबर से आठ सितंबर तक चले दसवें अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव में कादीपुर तहसील के रानेपुर (पलिया गोलपुर) गांव निवासी वरिष्ठ साहित्यकार डॉ.आद्या प्रसाद सिंह ‘प्रदीप’ को अवधी काव्य पर तथा शहर के शास्त्री नगर निवासी संत तुलसीदास स्नातकोत्तर महाविद्यालय कादीपुर के पूर्व हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ.ओंकार नाथ द्विवेदी को हिन्दी छन्द विधा में अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी उत्सव सम्मान प्रदान किया गया ।

जनपद के दोनों साहित्यकारों को मारीशस के सांसद व पी.पी.एस.मंत्री श्री विकास ओरी व मारीशस में भारत के उच्चायुक्त श्री अभय ठाकुर ने सम्मान पत्र ,अंगवस्त्र ,स्मृति चिन्ह आदि देकर सम्मानित किया । इस अवसर पर विश्व हिंदी सचिवालय मारीशस के महासचिव प्रोफेसर विनोद कुमार मिश्र , हिंदी प्रचारिणी सभा मारिशस के प्रधान यन्तुदेव बुद्धू मंच पर मौजूद रहे । सम्मान समारोह की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार रामदेव धुरंधर ने की ।उत्सव में डॉ.आद्या प्रसाद सिंह ‘प्रदीप’ के अवधी महाकाव्य तुलसीदास व निबंध संग्रह लोकविमर्श तथा डॉ.ओंकारनाथ द्विवेदी के सम्पादन में निकलने वाली साहित्यिक पत्रिका अभिदेशक का विमोचन भी हुआ ।

उल्लेखनीय है कि डा.आद्या प्रसाद सिंह’प्रदीप’ और डा.ओंकार नाथ द्विवेदी की कई पुस्तकें साहित्य जगत में चर्चित हुई हैं । इन दोनों को साहित्य जगत के दर्जन भर पुरस्कार मिल चुके हैं ।हिंदी प्रचारिणी सभा मारीशस द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में दुनिया भर के प्रमुख हिंदी सेवी शामिल हुये ।विदेशी धरती पर जनपद के साहित्यकारों के सम्मान पर आशुकवि मथुरा प्रसाद सिंह ‘जटायु’, डा.देवनरायण शर्मा, डा.सुशील कुमार पाण्डेय ‘साहित्येन्दु’,डा.करूणेश भट्ट ,ब्रजेश कुमार पाण्डेय ‘इन्दु’ , ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह ‘रवि’,पवन कुमार सिंह , अवनीश त्रिपाठी , दिनेश प्रताप सिंह ‘चित्रेश’ , राम प्यारे प्रजापति आदि साहित्यकारों ने खुशी जताते हुये इसे जनपद के लिए गौरवशाली क्षण बताया है ।

रिपोर्ट – विजय गिरि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here