शिक्षा विभाग के भ्रष्ट अधिकारियों के चलते निजी स्कूलों के प्रबंधक वसूल रहे हैं मनमानी फीस

0
87

मोदी नगर : निजी स्कूल के प्रबंधकों की मनमानी फीस वसूलने के चलते गरीब एवं मध्यम वर्ग के परिवारों को अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है । इसके लिए शिक्षा विभाग दोषी है वह निजी स्कूलों में शिक्षा अधिनियम का सख्ती से पालन नहीं करा रहे है । इसका मुख्य कारण है सुविधा शुल्क । क्षेत्र में अधिकांश

ऐसे निजी स्कूल भी चल रहे हैं जो शिक्षा अधिनियम मानकों को पूरा नहीं कर रहे हैं और मनमानी फीस वसूलने के साथ-साथ अध्यापकों का शोषण कर रहे हैं । निजी स्कूलों में शिक्षा अधिनियम का पालन करवाने में शिक्षा विभाग के अधिकारी नाकाम है । शिक्षा विभाग के अधिकारी मात्र चाहते हैं कि सिर्फ उनका परिवार ही फले फूले गरीब एवं मध्यम वर्ग के परिवारों के बच्चे भले ही न पढ़ पाये।
जनहित में शिक्षा विभाग के अधिकारियों को चाहिए कि अपना निजी स्वार्थ छोड़ कर निजी स्कूलों में शिक्षा अधिनियम का सख्ती से पालन कारायें जिससे निजी स्कूलों में गरीब एवं मध्यम वर्ग के परिवारों के बच्चे पढ़ सके ।

रिपोर्ट – सागर शुक्ल

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY