बिना हदबरारी निकाला चकरोड, काट डाले 104 पेड

0
64


रायबरेली (ब्यूरो)- डलमऊ क्षेत्र के केशरुवा गांव में बिना हदबरारी के लेखपाल द्वारा चकरोड निकालने और फिर उस पर खड़े एक सैकड़ा से ज्यादा पेड़ों को नीलाम कर जबरन कटवाने का प्रकरण सामने आया है। शनिवार को ही मशीन से सारे पेड़ काटे गए हैं। जो भी विरोध करने गया, पुलिस ने उसे जबरन बैठा लिया। प्रकरण डीएम के संज्ञान में होने के बावजूद ऐसी कार्रवाई हुई। इससे लोगों में आक्रोश व्याप्त है।

तहसील क्षेत्र के केशरुवा गांव निवासी सत्यनाथ व सनातन दोनों भाइयों ने अपनी भूमि की हदबरारी कराने के लिए डलमऊ एसडीएम न्यायालय में वाद दायर कर रखा है। वहीं दूसरी ओर एसडीएम ने पीड़ितों के खेत से आम रास्ता होने की बात कहकर खेत में लगे नीम, कटहल, यूकेलिप्टस आदि के 104 हरे पेड़ों को कटवा दिया। इस दौरान पहुंचे ग्रामीणों ने पेड़ काटे जाने का कारण पूछा तो छह ग्रामीणों को नजर बंद कर दिया गया।

पीड़ित सत्यनारायण ने बताया कि उसने उक्त मामले को लेकर उच्च न्यायालय लखनऊ में वाद दायर कर रखा है, जिसकी तारीख 28 नवंबर लगी हुई है। दूसरा वाद स्वयं एसडीएम साहब की कोर्ट में लंबित है। लेकिन वाद को दरकिनार कर शनिवार को एसडीएम डलमऊ जीतलाल सैनी ने दलबल के साथ मौके पर पहुंच सभी पेड़ कटवा दिए। पीड़ितों ने बताया कि दो दिन पूर्व डलमऊ एडीएम ने नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने के लिए न्यायालय में बुलाया था। पूर्व से नियोजित तरीके से एसडीएम ने कोर्ट के बजाय अपने चेम्बर में बुलाया और जबरन एक कागज पर अनापत्ति प्रमाण पत्र लिखवाकर हस्ताक्षर करा लिए।

एसडीएम जीतलाल सैनी ने बताया कि न्यायालय में तारीख से पूर्व हमें रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश से मिले हैं। पेड़ काटने के बाद वाट्सएप पर सूचना देनी थी। इसीलिए पेड़ कटवाए गए हैं। दूसरे पक्ष ने पेड़ों को काटने के लिए अपनी सहमित पूर्व में प्रदान कर दी है। उक्त भूमि पर हदबरारी का वाद लंबित है। एसडीएम से बात हुई, उन्होंने कोर्ट का कोई प्रकरण बताया। हमने मामले को संज्ञान में लिया है। इसकी जांच कराई जाएगी।

रिपोर्ट- प्रशांत त्रिपाठी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here