गैर पंजीकृत ई-रिक्शा वाले कर रहे है मनमानी

0
68

मैनपुरी(ब्यूरो)- गैर पंजीकृत ई- रिक्शे वालों की गुण्डागर्दी लगातार बढ़ती जा रही है। किराये की प्रतिस्पर्धा को लेकर गुरूवार को ई-रिक्शा वालों ने एक टैम्पों चालक की इसलिए धुनाई कर दी कि वह प्रति सवारी पांच रूपये ले रहा था और ई-रिक्शा वाला प्रति सवारी दस रूपये मांग रहा था। एक हफ्ते से ई-रिक्शे वालों का तांड्व हर रास्तें देखने को मिल रहा है। इसी के चलते बड़े चैराहे पर एक महिला ने रिक्शा चालक की न केवल पिटाई ही की बल्कि उस पर छेड़खानी का आरोप भी लगा दिया। प्रशासन द्वारा तिपहिया मोटर चालित वाहन टैम्पों थ्री ब्हीलर और गैर पंजीकृत ई-रिक्शा चालन में भेद बरतने के बाद थ्री ब्हीलर और गैर पंजीकृत ई-रिक्शा वाले एक दूसरे के दुश्मन बनकर यात्रियों की जान से खिलवाड़ करने में लगे है। दोनो वाहनों की अलग-अलग सवारी दरें होने की बजह से जहां यात्री लुट पिट रहा है। वहीं वाहन चालक भी यात्रियों को किराये में भ्रम पैदा कर लूटने में लगे है।

सिंघिया तिराहे से सदर बाजार होकर अथवा करहल चैराहा रेलवे स्टेशन होकर ईशन नदी पुल पहुचने का किराया 10 रूपये लगता था। जबकि बडे़ चैराहे और भांवत चैराहे तक पांच रूपये प्रशासन द्वारा की गई सख्ती के बाद ई रिक्शा वालो ने जिलाधिकारी के नाम की आढ़ लेकर सवारियों से एक किमी अथवा ईशन नदी पुल से तहसील, अस्पताल, भांवत चैराहा, रेलवे स्टेशन का भी किराया न्युनतम 10 रूपये कर दिया है। वहीं पुराने टैम्पों चालक इन स्थानों के पांच रूपये ही किराया ले रहे है। इसको लेकर गुरूवार को ईशन नदी पुल पर सवारियां उठाने रूके एक टैम्पों चालक की इन दबंग ई रिक्शा चालकों ने एकत्र होेकर इसलिए पिटाई कर दी कि टैम्पों चालक पुराने बस स्टैण्ड तक के पांच रूपये सवारी किराया मांग रखा था। जबकि ई रिक्शा चालक 10 रूपये से कम सवारी बैठाने को तैयार नहीं थे।

यातायात पुलिस की सह पर ई-रिक्शा चालकों की गुण्डगर्दी लगातार बढ़ती जा रही है। परिवहन विभाग ने इन सभी ईरिक्शा को अवैध वाहन घोषित कर शहर में संचालन प्रतिबंधित कर दिया है। फिर भी यातायात पुलिस की सह पर यह ईरिक्शा पूरे शहर में दनदनाते घूम रहे है। गुरूवार को ही बड़े चैराहे पर ई रिक्शा से उतरी महिला ने जब पांच रूपये किराया दिया तो रिक्शा चालक महिला से अभद्रता पर उतर आया तो महिला ने भी उसे रिक्शे से खीचकर उसकी मार लगाते हुये छेड़खानी का आरोप लगा दिया।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY