परीक्षा कार्यक्रम पर आयोग की मुहर

0
534

up-board
राब्यू, इलाहाबाद : यूपी बोर्ड परीक्षा 2017 की तारीखें तय हो गई हैं। परीक्षाएं 16 मार्च से शुरू होकर 21 अप्रैल तक चलेंगी। हाईस्कूल की 15 दिन व इंटरमीडिएट की 25 दिन तक परीक्षाएं चलेंगी।

होली के बाद ही परीक्षाएं

पिछले साल यूपी बोर्ड परीक्षा होली के त्योहार के पहले खत्म हो गई थी, वहीं इस बार परीक्षाओं का आगाज होली के ठीक बाद हो रहा है। अप्रैल माह में कई अवकाश होने के कारण परीक्षा की अवधि बढ़ गई है। अन्यथा हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा के दिन पिछले वर्ष के समान ही हैं। 1
यूपी बोर्ड हाई स्कूल-इंटर की परीक्षाएं 16 मार्च से शुरू होकर 21 अप्रैल तक चलेंगी |

निर्वाचन आयोग ने यूपी बोर्ड के प्रस्तावित परीक्षा कार्यक्रम का अनुमोदन कर दिया है। परिषद सभापति अमरनाथ वर्मा ने बताया कि इसी सप्ताह तारीखवार विस्तृत परीक्षा कार्यक्रम जारी होगा। माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2017 दो पालियों में होंगी। पहली पाली सुबह 7.30 से 10.45 तक एवं दूसरी पाली अपराह्न् 2.00 से शाम 5.15 तक चलेगी। पिछले वर्ष परीक्षा 18 फरवरी को शुरू होकर 21 मार्च को पूरी हुई थी। यह बदलाव विधानसभा चुनाव के कारण हुआ है। बोर्ड ने बीते आठ दिसंबर को ही 16 फरवरी से लेकर 20 मार्च तक परीक्षा कार्यक्रम घोषित किया था, लेकिन उस पर चुनाव आयोग ने रोक लगा दी थी। चुनाव कार्यक्रम घोषित होने के बाद बोर्ड ने आयोग से अनुमति लेने के लिए अलग-अलग तारीखों के तीन परीक्षा कार्यक्रम भेजे थे। अब उस पर मुहर लग गई है।

10वीं में 34 लाख, 12वीं में 26 लाख परीक्षार्थी

इस बार की हाईस्कूल की परीक्षा के लिए 34 लाख चार हजार 471 एवं इंटरमीडिएट में 26 लाख 24 हजार 681 समेत कुल 60 लाख 29 हजार 152 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं, जो पिछले साल की अपेक्षा सात लाख 63 हजार 882 कम हैं। हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं का श्रीगणोश इस बार भी हिंदी के प्रश्नपत्र से ही होने के आसार हैं। आयोग के अनुमोदन के बाद अब परीक्षा कार्यक्रम को गजट करने के लिए भेजा गया है। औपचारिक परीक्षा कार्यक्रम इसी सप्ताह घोषित कर दिया जाएगा। उसे परिषद की अधिकृत वेबसाइट पर भी अपलोड किया जाएगा। 1

कोडिंग से रोकेंगे नकल

सचिव ने बताया कि यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल पर अंकुश लगाने के लिए इस बार भी प्रदेश के 31 जिलों को संवेदनशील घोषित किया गया है। इसमें शाहजहांपुर, मुरादाबाद, बदायूं, संभल, हरदोई, गोंडा, अंबेडकर नगर, सुलतानपुर, संत कबीर नगर, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर, आगरा, अलीगढ़, मथुरा, हाथरस, एटा, मैनपुरी, फिरोजाबाद, कासगंज, आजमगढ़, जौनपुर, इलाहाबाद, कौशांबी, कानपुर नगर, कानपुर देहात, फतेहपुर, चित्रकूट, बलिया, देवरिया, भदोही व गाजीपुर शामिल है। 1 इन सभी जनपदों की उत्तर पुस्तिकाओं की कोडिंग कराई जा रही है। इससे कॉपियों की अदला-बदली होने की संभावना पर विराम लग जाएगा।

रिपोर्ट – डॉ. आर. आर. पाण्डेय

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here