उरई बैंक डकैती कांडः एडीजी कानपुर रेंज ने किया घटनास्थल का निरीक्षण

0
55

उरई/जालौन (ब्यूरो)- दिन दहाडे सेंटल बैंक में डकैती कांड मामले की गूंज राजधानी तक पहुंच गई है। इसके चलते शनिवार को एडीजी कानपुर रेंज ने शहर आकर घटनास्थल का निरीक्षण किया और बैंक अधिकारियेां से भी वारदात के बारे में जानकारी ली। उन्होंने अधीनस्थों को निर्देश दिए हैं कि तीन दिन के अंदर वारदात का खुलासा किया जाए। अगर ऐसा न हुआ तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। एडीजी के सख्त रूख के बाद अब पुलिस महकमे में हडकंप मचा हुआ है। पुलिस ने आधा दर्जन संदिग्धो को पूछताछ के लिए उठाया है। जिनसे कुछ सुराग भी पुलिस के हाथ लगे हैं। अगर सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही मामले का खुलासा हो सकता है।

गौरतलब है कि बीते शुकवार की सुबह तकरीबन पौने 11 बजे बाइक पर सवार होकर आए बदमाशों ने स्टेशन रोड स्थित सेंटल बैंक की गांधी महाविद्यालय शाखा में डकैती डाल दी थी। बैंक अधिकारियों के मुताबिक बदमाश यहां से पांच लाख 14 हजार रुपए लूटकर ले गए थे। उन्होंने एक-एक कर बैंक के अंदर तीन सुतली बम फोडे थे। जिससे वहां पर भगदड मच गई थी और तीन बैंककर्मियों समेत चार लोग जख्मी हो गए थे। वारदात के बाद एसपी ने मौके पर पहुंचकर बैंक के सीसीटीवी फुटेज खंगाले थे और जानकारी ली थी।

मामला बैंक के अंदर डकैती का होने के कारण इसकी गूंज लखनउ तक सुनाई दी। शाम होते-होते झांसी रेंज के डीआईजी जवाहर ने शहर में डेरा डज्ञल लिया और उन्होंने वारदात स्थल का निरीक्षण किया। शनिवार को कानपुर रेंज के एडीजी अविनाश चंद्र ने भी शहर में डेरा डाल लिया। सबसे पहले वह एसपी अमरेंद्र प्रताप सिंह, एएसपी सुरेंद्र नाथ तिवारी, शहर सीओ संतोष कुमार, शहर कोतवाल देवेंद्र द्विवेदी के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और वहां पर पूरी घटना की जानकारी ली।

उन्होंने बैंक की हेड कैशियर सुहासनी टुडु, सहायक मैनेजर दिलीप वर्मा से वारदात की जानकारी ली। इसके बाद उस रास्ते का निरीक्षण भी किया, जहां से बदमाश डकैती की वारदात को अंजाम देकर भागे थे। इसके बाद एडीजी कानपुर रेंज ने कोतवाली में अधीनस्थों के साथ मंत्रणा की। उन्होंने वारदात को लेकर कडा रूख दिखाते हुए तीन दिन में घटना का खुलासा करने का अल्टीमेटम दिया हैै। अन्यथा की स्थिति में कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा है। एडीजी के सख्त रुख के बाद पुलिस महकमे के अधिकारियों मे भी हडकंप मचा हुआ है। ताबडतोड छापामारी का दौर जारी है। अब तक पुलिस ने आधा दर्जन संदिग्धों को पूछताछ के लिए उठाया है। सूत्रों के अनुसार पुलिस को कुछ अहम सुराग भी हाथ लगे हैं। अगर सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही पुलिस वारदात का खुलासा भी कर सकती है। इस बारे में एडीजी कानपुर रेंज अविनाश चंद्र ने कहा कि जल्द ही वारदात का सही खुलासा किया जाएगा। इसमें किसी निर्दोष को नहीं फंसाया जाएगा। उन्होंने कहा कि कुछ सुराग हाथ लगे हैं। जिन पर काम किया जा रहा है।

साढे तीन लाख से शुरू हुई डकैती की रकम पांच लाख से अधिक तक पहुंची –
डकैती में कितना रुपया बदमाश लूटकर ले गए हैं, इसे लेकर भी तरह-तरह की चर्चाओं का दौर जारी है। डकैती के बाद बताया जा रहा था कि बदमाश साढे तीन लाख रुपए लूट ले गए हैं। इसके बाद यह रकम बढकर चार लाख रुपए हो गई। एफआईआर होने तक अब यह रकम पांच लाख 14 हजार रुपए तक पहुंच गई है। सवाल यह उठ रहा है कि आखिर बार-बार डकैती की रकम क्यों बढ रही है!

खुलासे के लिए लगाई गईं चार टीमें-
बैंक डकैती कांड के खुलासे के लिए चार टीमों को लगाया गया है। इनमें एक टीम उरई कोतवाली, एक सीओ, स्वाट, सर्विलांस टीम प्रभारी के नेतृत्व में छानबीन कर रही है। उक्त टीमें लगातार दबिशें दे रही हैं और पुराने हिस्टीशीटरों की तलाश की जा रही है।

रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY