अमेरिकी थिंक टैंक ने कहा करिश्माई नेता है पीएम मोदी, आज पूरी दुनिया के लोग उनसे मिलने के लिए रहते है बेताब

0
14002

वाशिंगटन – प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी अगले हफ्ते अमेरिका की यात्रा पर जाने वाले है | उनकी यात्रा से ठीक पहले अमेरिका के थिंक टैंक ने एक ऐसा बयान दिया है जिससे प्रधानमंत्री श्री मोदी का कद पूरी दुनिया में और अधिक ऊंचा हो गया |कार्नेगी एंडोमेंट फॉर इंटरनेशनल के एश्ले टेलिस ने कहा है कि अब से दो वर्ष पहले तक पूरी दुनिया में बहुत सारे लोग ऐसे थे जो पीएम मोदी से मिलने में हिचकते थे लेकिन अब दो वर्षों के भीतर ही उनकी सख्सियत में ऐसा परिवर्तन हुआ है कि दुनिया भर के वही लोग इस दिग्गज राजनेता से मिलने के लिए हमेशा आतुर रहते है |

अमेरिका के साथ मोदी के इतिहास को देखते हुए यह बहुत आश्चर्यजनक लगता है –
व्हाइट हाउस में पत्रकारों से बातचीत के दौरान टेलिस ने कहा है कि यह मोदी का करिश्माई ब्याक्तित्त्व ही है जिसने आज उन्हें दुनिया के शीर्ष नेताओं की लिस्ट में टॉप पर पहुँचाया है | उन्होंने कहा कि पीएम मोदी एक बार फिर से अमेरिका के दौरे पर आ रहे है और उनकी मुलाकात राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ होगी | वे दोनों जिस तरह से मिलते है उससे यह बात साफ़ होती है कि पीएम मोदी के ब्यक्तिगत रिश्ते राष्ट्रपति ओबामा के साथ कितने मजबूत है | उन्होंने यह भी कहा है कि अमेरिका के साथ पीएम मोदी का इतिहास देखते हुए यह बहुत आश्चर्यजनक लगता है कि पीएम मोदी और अमेरिका के रिश्ते कितने मजबूत है | गौरतलब हो कि पीएम मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब गुजरात दंगो के बाद 2002 में पीएम मोदी को अमेरिका की धरती पर कदम रखने से बैन कर दिया गया था | लेकिन पीएम मोदी जैसे ही 2014 में पूर्णबहुमत के साथ सत्ता में वापस आये थे उसके बाद अमेरिका ने खुद ही पीएम मोदी के ऊपर सभी बैंस को हटा लिया था और साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने खुद ही पीएम मोदी को अमेरिका आने का निमंत्रण दिया था |

ओबामा और मोदी सातवीं बार मिलेंगे –
पीएम मोदी की कुशल विदेशनिति का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि अभी पीएम मोदी ने महज दो वर्षों का ही छोटा सा कार्यकाल पूरा किया है लेकिन इन दो वर्षों के कार्यकाल में दुनिया के सबसे शक्तिशाली मुल्क अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ उनकी यह सांतवी मुलाकात है | टेलिस ने कहा है कि यह मोदी का करिश्माई ब्याक्तित्त्व ही है जिसकी दम पर वे ऐसा कर सके है नहीं तो कोई भी ऐसा देश जो औपचारिक तौर पर अमेरिका का सहयोगी देश नहीं है उसके शासनाध्यक्ष के साथ इतनी मुलाकातें और बैठकें असंभव ही है | उन्होंने कहा है कि यह पीएम मोदी और राष्ट्रपति बराक ओबामा दोनों के लिए ही एक रिकार्ड होगा |

भारत नेपाल रिश्तों के मामले में थोडा सा असर दिखा –
अमेरिकी थिंक टैंक ने कहा है कि अगर हम प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की विदेश निति की बात करते है तो उसमें उनका कोई शानी ही नहीं है | हालाँकि पाकिस्तान और नेपाल के मामले में उनकी विदेशनिति बहुत थोड़ी कमजोर पड़ती हुई दिखाई पड़ी है लेकिन इसका कोई ख़ास असर उनके जीवन में नहीं पड़ता है | उन्होंने कहा है कि पीएम मोदी किसी भी रिश्ते को बहुत दूर तक ले जाने की क्षमता रखते है और इतना ही नहीं वे केवल बातें नहीं करते है बल्कि जरुरत के अनुसार कार्य करने के लिए भी जाने जाते है | इसीलिए उन्हें पूरी दुनिया में एक्शन मैंन के नाम से जाना जाता है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here