अमेरिका ने पाकिस्तान को दी चेतावनी- तुरंत परमाणु कार्यक्रम बंद करने को कहा

0
1001

वाशिंगटन- पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम को अमेरिका ने स्थिरता के लिए खतरा करार देते हुए और पाकिस्तान की परमाणु कार्यक्रम में विशेष रूचि को देखते हुए उसे तुरंत ही अपने परमाणु कार्यक्रमों पर रोक लगाने के आदेश दिए है I साथ ही साथ अमेरिका ने अपनी चेतावनी में इस बात का भी जिक्र किया है कि पाकिस्तान ऐसा कोई भी कार्य न करें जिससे पश्चिमी एशिया में संकट की या फिर अस्थिरता का माहौल बने I

आपको बता दें कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि रिचर्ड ओल्सन ने अमेरिकी सांसदों से कहा है कि, “हम आपकी चिंताओं से वाकिफ है, विशेषकर पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम से जुडी चिंता से I ओल्सन ने यह भी कहा है कि दक्षिण पश्चिमी एशिया में जो पारंपरिक संघर्ष चल रहा है वह कभी परमाणु शक्ति के इस्तेमाल तक भी पहुँच सकता है क्योकि पाकिस्तान लगातार ही परमाणु हथियारों की संख्या बढाता ही जा रहा है I

उन्होंने अपने वक्तब्य के दौरान यह भी कहा है कि हमनें पाकिस्तानियों के साथ इस मुद्दे पर विस्तृत चर्चा की है और अपनी शंकाओं को उनके समक्ष रखते हुए यह भी कहा है कि अमेरिका चाहता है कि वह तुरंत ही अपना परमाणु कार्यक्रम बंद कर दें I

उन्होंने यह भी कहा है कि हमनें परमाणु क्षमता से संपन्न सभी देशों की ही तरह पाकिस्तान से भी इस बात की अपील की है कि वह अपने यहाँ परमाणु कार्यक्रमों को बंद कर दें I साथ ही साथ हमनें पाकिस्तान से यह भी कहा है कि वह ऐसा कोई भी कदम न उठाये जिससे पश्चिमी एशिया में अस्थिरता पैदा हो I

आपको बता दें कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान के अमेरिका प्रतिनिधि ओल्शन का बयान ऐसे समय में आया है जब अमेरिकी सांसदों ने अमेरिकी सरकार से इस्लामाबाद के बहुत ही सख्त रुख अपनाने के लिए कहा है I इसके पीछे उनका तर्क यह है कि पाकिस्तान भारत के साथ अपने संबंध सुधारने के मामले में संजीदा नहीं दिखता और उसने हथियारों के उत्पादन की गति भी बढ़ा दी है। हिगिंस ने सुनवाई के दौरान आरोप लगाया कि पाकिस्तान भारत के साथ अपने संबंध सुधारने को लेकर संजीदा नहीं है।

हिगिंस ने कहा, ‘पाकिस्तान भारत के कारण उसके अस्तित्व पर मौजूद कथित खतरे के खिलाफ हथियारों की दौड़ में शामिल है। कार्नेगी एनडाउमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस के अनुसार, पाकिस्तान के पास अगले दशक में 350 परमाणु हथियार हो सकते हैं। इसके साथ ही वह भारत, फ्रांस, चीन और ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी परमाणु शक्ति बन सकता है।’ उन्होंने कहा कि भारत के साथ पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार के कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिल रहे हैं क्योंकि पाकिस्तान अपने परमाणु प्रसार को बाहरी आक्रमण के खिलाफ तैयारी बताते हुए उचित ठहराता है। जो दोहरा खेल वे खेलते आ रहे हैं, हमें उन्हें उसे बंद करने के लिए कहना होगा। यह खेल वह इस साल से नहीं, पिछले साल से नहीं, पांच साल से नहीं बल्कि पिछले 15 साल से खेल रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here