जरमुणडी में उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय दलदली के बच्चे पीते हैं जोरिया का पानी

0
318

WhatsApp Image 2017-02-16 at 8.03.24 PM
दुमका : दुमका जिला के जरमुंडी प्रखंड अंतर्गत भोड़ाबाद पंचायत के उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय दलदली में पेयजल की व्यवस्था नहीं रहने के कारण विद्यालय के छात्र छात्राएं जोरिया का पानी पीने को मजबूर हैं । इस बावत विद्यालय के छात्र शनि सोरेन, विकास राणा, रुबी लाल सोरेन, अरिजीत मुर्मू, जिया मुर्मू, लगोरी सोरेन आदि का कहना है कि विद्यालय में पेयजल की व्यवस्था नहीं रहने के कारण हम लोग बगल में स्थित जोरिया का पानी पीते हैं, और इसी पानी से मध्यान भोजन खाकर अपना बर्तन धोते हैं।

बता दें कि विद्यालय में 58 बच्चे नामांकित हैं, और विद्यालय में बाबूधन मुर्मू सचिव व कटकी प्रसाद राउत सहायक शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं । विद्यालय के सचिव ने कहा कि इस संबंध में कई बार विभाग को अवगत कराया गया परंतु 2002 में स्थापित हुए इस विद्यालय में आज तक पेयजल के लिए बोरिंग नहीं किया गया।

उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र के विधायक बादल पत्रलेख को भी इस बात की जानकारी दी गई परंतु आज तक इस विद्यालय के बच्चों को शुद्ध पेयजल नसीब नहीं हुआ। ज्ञात हो कि बीते 9 सितंबर 2016 को प्रमुख अखबार श्वेत पत्र में इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था, जिस पर प्रखंड के तत्कालीन बीईईओ ने कहा कि यह अकेले विद्यालय की समस्या नहीं है। प्रखंड क्षेत्र में ऐसे कई विद्यालय हैं जहां पढ़ने वाले बच्चों को शुद्ध पेयजल नहीं मिलता है और उसके बाद मामला ठंडा पड़ गया। अब ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इन विद्यालय क्षेत्र के वार्ड पार्षद, मुखिया, पंचायत समिति, जिला परिषद सदस्य एवं विधायक का कर्तव्य नहीं बनता है कि ऐसे विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराया जाए? क्षेत्रीय अखबारों में हर रोज किसी ना किसी जनप्रतिनिधि का बयान लगता रहता है कि इस प्रतिनिधि ने इस ग्राम में बिजली ट्रांसफार्मर का उद्घाटन किया लेकिन आज तक किसी जनप्रतिनिधि ने अखबार में छपवाया कि मैंने किसी विद्यालय में स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था की, ऐसा क्यों?

रिपोर्ट – धनञ्जय सिंह

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY