यूपी :जान जोखिम में डालकर लकड़ी के पुल से यतायात को मजबूर ग्रामीण, पुल भी निजी पैसों से बनाया

0
551
lakdi ka pul
Photo Credit – bhaskar

यूपी में सत्ताधारी सरकार का नारा तो है “पूरे होते वादे” पर यह वादे पूरे होते दिख नहीं रहे हैं | वादे तो छोड़िये सरकार लोगों को मूलभूत सुविधाएँ दे पाने में भी असमर्थ नज़र आ रही है और लोगों को सरकार का सहारा छोड़ सरकार द्वारा किये जाने वाले काम भी खुद ही करने पड़ रहे हैं |

ऐसा ही कुछ देखने को मिला बाराबंकी जिले के शाहपुर गाँव में जहां पर एक युवक ने खुद की मेहनत और 80 हज़ार की निजी लागत से पुल लकड़ी का पुल बनाया है, और गाँव के लोग अपनी जान जोखिम में डालकर उसी लकड़ी के पुल से नदी पार करने को मजबूर हैं | यह क्षेत्र प्रदेश के कृषि राज्य मंत्री राजा राजीव कुमार सिंह का है सालों से गाँव के लोग शासन और प्रशासन से पुल की मांग कर रहे हैं पर अभी तक राज्य सरकार को ग्रामीणों की पुकार सुनाई नहीं पड़ी है |

ग्रामीणों का कहना है कि इस पुल से प्राथमिक विद्यालय के छात्रों और अन्य राहगीरों को मिलकर रोजाना करीब 900-1000 लोग गुजरते हैं और पुल बनाने वाले युवक को पुल उतराई के रूप में 1-2 रुपए या थोडा सा अनाज देते है जिससे उसके परिवार का गुजर – बसर होता है और समय – समय पर पुल की मरम्मत भी होती है ताकि जान- माल का कोई नुकसान न हो | यह पुल करीब 50 – 60 गांवों को जिला मुख्यालय से जोड़ता है |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

five × five =