योगी के हाथ में गई यूपी की कमान तो भड़क उठा पाकिस्तानी मीडिया

0
2031

नई दिल्ली- देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की कमान योगी आदित्यनाथ के हाथों में देने की खबर जैसे ही मीडिया में आई ना केवल भारत में ही बल्कि दुनिया के कई देशों में बहुत सारे लोग आश्चर्यचकित रह गए हैं। खास करके यदि हम बात पाकिस्तान की कर रहे हैं तो पाकिस्तान में “योगी के हाथ में यूपी की कमान” की खबर जैसे ही प्रसारित हुई पाकिस्तानी मीडिया में हलचल पैदा हो गई। जी हां हम आपको बता दें कि पाकिस्तान के एक प्रमुख अखबार डॉन ने अपनी वेबसाइट पर इस खबर को प्रमुखता से जगह दी है।

DAWN ने अपनी खबर में योगी आदित्यनाथ को कट्टरपंथी हिंदू और मुस्लिम विरोधी नेता करार दिया है। अखबार ने लिखा है कि हिंदू कट्टरपंथी को भारत की सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य का मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। अखबार ने आगे लिखा कि योगी आदित्यनाथ अपने कट्टर हिंदू विचारों और मुस्लिम विरोधी बयानों के लिए जाने जाते हैं। योगी अपने समर्थकों में अल्पसंख्यकों के खिलाफ तीखे बयानों के लिए बेहद लोकप्रिय हैं।

डॉन ने अपनी खबर में यूपी चुनाव प्रचार के दौरान योगी द्वारा हिंदुओं के साथ हुए अन्याय का मुद्दा उठाए जाने, लव जिहाद जैसे विवादित मामलों को उठाने का भी आरोप लगाया है। अखबार ने लिखा है कि वह धर्म परिवर्तन, घर वापसी जैसे विवादित मुद्दों के लिए अपने समर्थकों में बेहद लोकप्रिय हैं।

पाकिस्तानी अखबार द न्यूज ने भी योगी को बताया मुस्लिम विरोधी और कट्टरपंथी-
आपको बता दें कि ना केवल पाकिस्तानी अखबार डॉन बल्कि पाकिस्तान के एक अन्य अखबार द न्यूज ने भी अपने फ्रंट पेज पर लिखा है कि योगी आदित्यनाथ बड़े मुस्लिम विरोधी और कट्टरपंथी हिंदू हैं। योगी आदित्यनाथ के बारे में अखबार में लिखा है कि योगी के ऊपर धर्मांतरण कराने, हत्या के प्रयास जैसे कई संगीन अपराध दर्ज हैं।

अखबार ने न केवल सिर्फ योगी आदित्यनाथ बल्कि पीएम मोदी के विकास के एजेंडे को भी आड़े हाथों लिया, पीएम मोदी पर कमेंट करते हुए अखबार ने लिखा है कि एक तरफ जहां पीएम मोदी सबका साथ सबका विकास विकास के एजेंडे की बात करते हैं वहीं दूसरी तरफ देश के सबसे बड़े सूबे में योगी आदित्यनाथ जैसे कट्टरपंथी को प्रदेश का मुखिया बनाया जा रहा है।

लेख में यह भी लिखा गया है कि योगी आदित्यनाथ भारत में आतंकवाद के खात्मे के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुस्लिमों का भारत में प्रवेश को तत्काल बंद करने वाले विचार का समर्थन करते हैं।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here