वाराणसी में तेज बारिश से तालाब बनी सड़के, नगर निगम के दावों की खुली पोल

0
65


वाराणसी (ब्यूरो)- पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र काशी को जिस तरह पिछले तीन साल से क्योटो बनाने का सपना शहर के लोगों को दिखाया जा रहा है और अब तो ये शहर स्मार्ट सिटी की दौड़ में भी शामिल हो चुका है। लेकिन बीती रात को हुए मूसलाधार बारिश ने सारे दावों की पोल खोल कर रख दिया।

तेज बारिश से तालाब बना शहर-
बीती रात से हुई बारिश ने नगर निगम के दावों की पोल खोल कर रख दी है। नगर निगम में पिछले हफ्ते गड्ढे को पटवाने का लाखो रूपये खर्च किया गया है।

प्रमुख मार्गो पर लगा पानी-
शहर का कोई भी ऐसी महत्पूर्ण सड़क या बाजार स्टेशन , कालोनिया नहीं बचा जहां पर सड़क पर दो से तीन फीट पानी न लगा हुआ हो। खास बात ये है कि बारिश बंद होने के दो घंटे बाद तक सड़क पर पानी लगा हुआ है। लोग इस पानी में गिरते पड़ते चलने को मजबूर है। काशी टूरिज्म का शहर है लिहाजा तमाम विदेशी भी सावन के महीने में घूमने पहुंचे हुए है। विदेशी  इस नजारे को देख कर हैरान है और इस तालाब में जैसे तैसे पैदल चल कर अपने मंजिल तक पहुंचने की कोशिश कर रहे है।

गोदौलिया, गिरजाघर लक्सा नई सड़क बेनियाबाग नीचीबाग तेलियाबाग, अंधरापूल, चौकाघाट, मैदागिन, कैंटरेलवे स्टेशन के सामने भी बुरी तरह से जल जमाव बना हुआ हैं ऐसे तमाम इलाके है जहां कि सड़के तालाब में तब्दील हो गयी है।  और दुकानों के अंदर दो दो फीट पानी घूंस चुका है। लोग जिम्मेदार नगर निगम के अधिकारियों, मेयर और क्योंटो बनाने वाले नेताओं को कोस रहे है।

गंदे पानी में चलने को मजबूर कांवरिया-
कल सावन का चौथा सोमवार है लिहाजा लाखों की संख्या में कावरियें बाबा विश्वनाथ को जल चढ़ाने के लिए पहुंचे हुए है लेकिन अचानक हुई बारिश के बाद वे सड़क पर बने तालाब में फंस गये। शिविर के ओवर फ्लों से निकलने वाले गंदे पानी में ही चलने के लिए ये कावरियें मजबूर है। तमाम लोग तो इस पानी में गढ़े न दिखाई देने के चलते गिर कर घायल हो जा रहे है।

रिपोर्ट- सवेॅश कुमार यादव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here