विजिलेंस ने जेई को रिश्वत लेते पकड़ा

0
197

पुरोला– विजिलेंस ने लोनिवि के जेई को 50 हजार की घूस लेते रंगे हाथ पकडा है। बताया जा रहा है कि ठेकेदार का बिल पास करने की एवज में यह रकम मांगी गई थी। फिलहाल विजिलेंस की टीम ने जेई को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच में जुट गई है। बताया जा रहा है कि जेई के पास करोड़ों रुपये की संपत्ति है और देहरादून के पॉश इलाके जीएमएस रोड पर उनका शानदार मकान है।

विजिलेंस के एसएसपी डॉ. सदानंद दाते के अनुसार, ठेकेदार जनक सिंह रावत को मोरी-नैटवाड़ सड़क के निर्माण कार्य का ठेका मिला था। यह सड़क छह करोड़ रुपये में बननी थी। ठेकेदार की ओर से सड़क पर कुछ काम कराया गया और इसका बिल लोनिवि के खंड कार्यालय में दे दिया गया। लेकिन, आरोप है कि लोनिवि के जेई त्रेपन सिंह निवासी व्योमप्रस्थ जीएमएस रोड (देहरादून) ने बिल पास कराने के बदले जनक सिंह से 50 हजार रुपये की मांग की। जब जेई नहीं मानें तो ठेकेदार ने विजिलेंस से शिकायत कर दी। इसके बाद विजिलेंस की टीम बुधवार को एसएसपी डॉ. सदानंद दाते के नेतृत्व में पुरोला पहुंच गई। जैसे ही ठेकेदार ने लोनिवि खंड कार्यालय में जेई को 50 हजार सौंपे, वहां पहले से मौजूद टीम ने जेई को दबोच लिया। इसकी भनक लगी तो ठेकेदार एसोसिएशन के कुछ पदाधिकारी विरोध करने पहुंच गए। उन्होंने गिरफ्तारी का विरोध किया, लेकिन विजिलेंस टीम ने सख्ती बरती और आरोपी को अपने साथ दून ले आई।

गौरतलब है कि रिश्वत लेते पकड़े गए पुरोला पीडब्ल्यूडी के जेई त्रेपन सिंह राणा के पास करोड़ों की संपत्ति है। देहरादून के पॉश इलाके जीएमएस रोड पर उनका शानदार मकान है। विजिलेंस को इसके अलावा देहरादून, विकासनगर, पुरोला और मोरी में प्लाट होने की भी जानकारी मिली है। आरोपी को गुरुवार को देहरादून में स्पेशल कोर्ट में पेश किया जाएगा। विजिलेंस टीम ने उसकी गिरफ्तारी के बाद बुधवार को व्योमप्रस्थ जीएमएस रोड स्थित उसके मकान में छापेमारी की। छापेमारी के दौरान टीम ने उसकी पत्नी और बच्चों से भी पूछताछ की। तलाशी के दौरान उनके घर से विजिलेंस टीम को बैंक खातों और कुछ अन्य जगह प्लॉट के पेपर मिले हैं। एसएसपी विजिलेंस डा. सदानंद दाते ने बताया कि आरोपी जेई के उत्तरकाशी और यहां स्थित आवास से जो भी दस्तावेज मिले हैं, उनकी जांच की जा रही है। इसके अलावा परिसंपत्तियों की भी जांच की जाएगी। अगर जांच में संपत्ति ज्यादा मिली तो आय से अधिक संपत्ति का भी मुकदमा दर्ज किया जा सकता है।

रिपोर्ट- मो. शादाब
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here