विजय माल्या ही नहीं सभी बड़े भगोड़ों की घर वापसी पर काम कर रही है मोदी सरकार

0
149

नई दिल्ली- केंद्र की मोदी सरकार ने बुधवार को संसद में बताया कि विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, नितिन और चेतन संदेसरा, ललित मोदी और यूरोपियन बिचौलिए गुईडो राल्फ हाश्चके और कार्लो गेरोसा उन 58 आर्थिक भगोड़ों में शामिल हैं जो विदेश में रह रहे हैं और उन्हें देश वापस लाने के लिए प्रत्यर्पण की मांग, इंटरपोल से रेड कार्नर नोटिस और और लुक आउट नोटिस जारी करने का अनुरोध किया गया है।

सरकार ने सदन को जानकारी देते हुए बताया है कि इन सभी को वापस लाने के लिए भारत सरकार और जांच एजेंसियां जैसे कि प्रवर्तन निदेशायलय (ईडी), केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने वर्तमान में यूएई, ब्रिटेन, बेल्जियम, मिस्र, अमेरिका और एंटीगुआ को प्रत्यर्पण संबंधी अनुरोध भेजे हुए हैं। यदि सम्बंधित देश  भारत सरकार के द्वारा प्रस्तावित प्रत्यर्पण दस्तावेजों को स्वीकार कर लेते है तो जल्द ही इन सभी आर्थिक भगोड़ों की घर वापसी संभव हो जायेगी।

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा बुधवार को सदन के निचले सदन यानी की लोकसभा में यह जानकारी देते हुए बताया गया है कि भारत सरकार ने वीवीआईपी चॉपर घोटाले के बिचौलिए गुईडो हाश्चके और कार्लो गेरोसा को भारत प्रत्यर्पित करने के लिए इटली को अक्तूबर में फिर से प्रत्यर्पण अनुरोध भेजा गया है। हालाँकि उन्होंने इससे पहले जब इटली से इस तरह की मांग की थी तब इटली के अधिकारियों ने उनकी इस मांग को वापस भेज दिया था, परन्तु पुनः इस मामले पर बात की जा रही है।

इसी तरह से विदेशमंत्रालय की तरफ से दी गयी जानकारी के अनुसार भारत सरकार और देश की विभिन्न एजेंसियां लगातार सम्बंधित देशों और इंटरपोल से इस मामले पर जुडी हुई है जिससे जल्द से जल्द भारत के इन सभी बड़े आर्थिक भगोड़ों को भारत वापस लाया जा सके और इन सभी के ऊपर ननयायिक प्रक्रिया भी शुरू की जा सके। विदेश मंत्रालय ने यह भी जानकारी देते हुए कहा है कि उन्हें उक्त मामले पर आंशिक सफलता भी मिल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here