परियों हूरों के साथ चलने वाला, 1किमी दूर से दिखने वाला माल्या गायब कैसे हो गया – गुलाम नबी आज़ाद

0
697

दिल्ली- देश के मशहूर उद्योगपति विजय माल्या के ऊपर जैसे ही सरकारी तंत्र ने अपना शिकंजा कसा विजय माल्या सुशील मोदी की ही भांति देश से फरार होने में सफल हो गए I विजय माल्या के फरार होने के पीछे किसका हाथ है या फिर वह खुद ही निकल गया यह तो अभी तक कुछ साफ़ नहीं है लेकिन आज विजय माल्या का नाम संसद के भीतर भी एक बड़े और गंभीर मुद्दे की भाँति छाया रहा I लोक सभा में कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के नेत्रत्त्व में कांग्रेस के सांसदों ने वाक आउट कर दिया तो वही दूसरी और राज्य सभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आज़ाद ने केंद्र सरकार के ऊपर जमकर हमला बोला I

राज्य सभा में बोले गुलाम नबी आज़ाद –

राज्य सभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आज़ाद ने सरकार के ऊपर आज जमकर हमला बोला I आज़ाद ने सीधे तौर पर अपनी बातों से सरकार के ऊपर आरोप लगाया है कि विजय माल्या के देश छोड़कर जाने के पीछे सीधे तौर पर सरकार का हाथ है और इतना ही नहीं गुलाम नबी आज़ाद ने आज राज्य सभा में यह भी कहा है कि माननीय सुप्रीमकोर्ट को खुद ही संज्ञान लेना चाहिए और इस मामले में सरकार को भी एक पार्टी बनाकर मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए I
राज्यसभा में बोलते गुलाम नबी आज़ाद-

गुलाम नबी आज़ाद ने अपनी बात को रखते हुए तर्क दिया और कहा कि सीबीआई कहती है कि उसने विजय माल्या के खिलाफ लुक आउट नोटिस इशू कर रखा था, तो मै यह पूछता हूँ कि लुक आउट नोटिस के बाद भी विजय माल्या देश छोड़कर भागने में कैसे कामयाब रहा ? गुलाम नबी आज़ाद ने कहा है कि जब कभी सभी जानते है कि किसी भी ब्यक्ति के लिए लुक आउट नोटिस इशू किया जाता है तो उसे हर एक एयरपोर्ट पर भी दिया जता है और उसे एयरपोर्ट पर ही गिरफ्तार कर लिया जाना चाहिए था I लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो इसका तो साफ़ यही मतलब है कि सरकार भी इस मामले में पूरी तरह से संलिप्त है I

क्या है पूरा मामला –
देश के सबसे चर्चित उद्योगपतियों में से एक विजय माल्या आजकल देश से फरार चल रहे है उनके खिलाफ सीबीआई ने लुक आउट नोटिस इशू कर रखा है और देश 17 बड़े बैंकों ने उनके खिलाफ सुप्रीमकोर्ट में अब मुकदमा भी दायर कर दिया है लेकिन जब तक सुप्रीमकोर्ट इस मामले में कुछ भी कर पाती उससे पहले ही विजय माल्या देश छोड़कर किसी और देश जा चुके है I
विजय माल्या के ऊपर देश की 17 बड़ी बैंकों का तक़रीबन 9 हजार करोंड रूपये का भारी भरकम कर्जा है I पिछले काफी समय से विजय माल्या ने किसी भी बैंक को न ही ब्याज का एक भी रुपया वापस किया और न ही प्रिंसिपल अमाउंट ही वापस किया है इसी के चलते सभी बैंकों ने एक साथ ही सुप्रीमकोर्ट की शरण ली है I अब सुप्रीमकोर्ट ने सरकार को निर्देश दिए है कि विजय माल्या यदि लन्दन में है तो उन्हें वहां स्थित भारतीय दूतावास के जरिये नोटिस भेजा जाना चाहिए I

आज़ाद के हमले पर जेटली का पलटवार –
कांग्रेस के राज्यसभा सांसद और नेता विपक्ष गुलाम नबी आज़ाद के आरोपों का खंडन करते हुए सरकार की तरफ वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि 2004 में जब सत्ता में कांग्रेस थी तब ही विजय माल्या को बैंक कि सुविधा दी गयी थी I उन्होंने यूपीए सरकार के ऊपर निशाना साधते हुए कहा है कि उसके ऊपर तो सबसे ज्यादा यूपीए सरकार ही मेहरबान थी I जब हर किसी को यह पता था कि विजय माल्या की माली हालत ठीक नहीं है तो ऐसे में उसे इतना अधिक लोन देने की क्या आवश्यकता थी I जेटली ने सदन को भरोषा दिलाते हुए कहा है कि देश के सभी बैंकों को अपना कर्ज वसूलने का पूरा हक़ है और छूट भी I उन्होंने कहा कि विजय माल्या की ज्यादातर संपत्ति भारत में ही है और बैंक उस संपत्ति से एक-एक पाई का हिसाब लेंगे I

कांग्रेस को अरुण जेटली ने दिया करारा जवाब –

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here