विकास विभाग के कर्मियों की स्वच्छंदता पर जिलाधिकारी के तेवर हुए तल्ख़

बलिया (ब्यूरो)- विकास विभाग के कर्मियों की स्वच्छंदता पर जिलाधिकारी के तेवर तल्ख हो गए है। उन्होंने कार्य में लापरवाही मिलने पर एक सचिव के निलंबन के साथ ही कई सचिवों पर कार्रवाई के निर्देश दिए है। मुरलीछपरा ब्लाक के प्रभारी एडीओ पंचायत पर विभागीय कार्रवाई की संस्तुति करते हुए बीडीओ बैरिया को मुख्यालय से अटैच कर दिया है।

जिलाधिकारी ने पिछले दिनों भ्रमण कर कई विकास खंडों में विकास की स्थिति का लगातार निरीक्षण किया और सुधार की चेतावनी दी थी, लेकिन कोई सुधार नहीं करने वाले कर्मियों के खिलाफ सोमवार को कार्रवाई की। बैरिया ब्लाक के कोटवां में धनराशि होने के बावजूद कोई काम नहीं कराने पर ग्राम विकास अधिकारी को निलंबित अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश दिए। साथ ही वहां तेज तर्रार सचिव को तैनात करने को कहा है। मुरली छपरा विकास खंड की खराब स्थिति मिलने पर प्रभारी एडीओ पंचायत संजय सिह पर विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की है। विगत दिनों जिलाधिकारी ने बैरिया ब्लॉक के निरीक्षण में पाया था कि बीडीओ व एडीओ पंचायत को विभागीय कार्यों की एकदम जानकारी नहीं थी। इस पर उन्होंने बीडीओ को तत्काल मुख्यालय अटैच कर दिया है, जबकि एडीओ पंचायत को सुधार लाने की चेतावनी दी है।

गड़वार ब्लॉक में ग्राम पंचायतों में हो रहे कार्यों का कोई लेखा-जोखा नहीं दे पाने पर एडीओ पंचायत को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश डीपीआरओ को दिए है। रसड़ा ब्लाक में भी ऐसा ही मिलने पर वहां के बीडीओ को चेतावनी जारी की है तथा एडीओ पंचायत रसड़ा को प्रतिकूल प्रविष्टि देने को कहा है।

कनिष्ठ को एडीओ पंचायत बनाने पर सवाल-
जिलाधिकारी ने मुरली छपरा ब्लाक के विकास कार्यों पर कड़ी आपत्ति जताई थी। एडीओ पंचायत को तलब किया, लेकिन वे हाजिर नहीं हो सके। इस पर जिलाधिकारी ने पूछताछ की तो पाया कि विकास खंड में वरिष्ठ ग्राम पंचायत अधिकारी होने के बावजूद कनिष्ठ को एडीओ पंचायत का चार्ज डीपीआरओ द्वारा दिया गया है। इस पर कड़ी आपत्ति जताई। यह भी पता चला कि वे बिहार प्रांत के छपरा से प्रतिदिन आते जाते हैं। जांच में स्वच्छता कार्यक्रम की स्थिति बेहद खराब होने पर प्रभारी एडीओ पंचायत व सचिव संजय सिह के खिलाफ विभागीय कार्रवाई को पत्र लिखने के निर्देश दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here