बच्चों की गलतियों की सजा भुगती प्रिंसिपल ने अपनी जान देकर और आँखे फोड़वाकर

0
179

आपको ज्ञात हो कि कल रविवार सुबह बिहार के नालंदा जिले के नीरपुर के डी.पी.एस. के पास ही तालाब से प्राप्त हुई स्कूल में पढने वाले 2 छात्रों की लाशों के बाद भड़के परिजनों ने स्कूल में तोड़-फोड़ कर तबाही मचा दी थी और स्कूल में आग लगाने के बाद स्कूल के प्रिंसिपल को भी पीट-पीट कर मार डाला था तथा बाद में प्रिंसिपल की आँखे भी फोड़ दी गयी थी, सूत्रों से प्राप्त खबर के अनुसार स्कूल प्रिंसिपल 6-7 घंटे तक वही सड़क पर पड़े तडपते रहे और जब पुलिस उन्हें अस्पताल लेकर पहुंची तब उनकी मृत्यु हो चुकी थी I

निर्दोष प्रिंसिपल को पीटते हुए ग्रामीण
निर्दोष प्रिंसिपल को पीटते हुए ग्रामीण

अब आज जब दोनों बच्चों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई हैं तो डाक्टरों ने साफ़ कर दिया कि दोनों बच्चों की मौत किसी पिटाई के कारन नहीं बल्कि तालाब में डूबने से हुई हैं और जिस बच्चे की आँख फूटने की बात कर रहे थे, डाक्टरों ने अपनी रिपोर्ट में साफ़ कर दिया हैं किसी भी बच्चे के शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई भी बाहरी चोट का निशान नहीं हैं और बच्चे की आँख फूटी नहीं थी बल्कि तालाब में कूदते समय में उस बच्चे की आँख के पास कुछ लग गया था, जिससे उसकी आँख छिल गयी थी I

कल जब ग्रामीणों को बच्चों की लाश मिली थी तभी से उपद्रवियों ने स्कूल परिसर पर धावा बोल दिया था, स्कूल के किचन में रखी गैस का इस्तेमाल कर स्कूल में आग लगा दी थी और स्कूल प्रिंसिपल को पीट-पीट कर मार डाला था I घटना स्थल पर पहुंची पुलिस पर भी लोगों ने पथराव किया था जिसमें पुलिस के 6 जवान भी घायल हो गए थे I

क्या प्रिंसिपल की आत्मा और उसके परिवार को इन्साफ मिलेगा –
अब तक की प्राप्त जानकारी के अनुसार यही दिखता हैं कि पूरे मामले में एक निर्दोष प्रिंसिपल की दर्दनाक तरीके से हत्या कर दी गयी, अगर पुलिस समय से मौके पर पहुँच जाती तो शायद ऐसा नहीं होता, लेकिन अब क्या जिन लोगों ने मूर्खता वश एक निर्दोष ब्यक्ति की हत्या की हैं क्या उन परिवारों को सजा मिलेगी ? इस पूरे प्रकरण से कहीं न कहीं सवालों के घेरे में खड़ी हैं बिहार सरकार I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

thirteen + sixteen =