बिजली व्यवस्था में सुधार न होने पर ग्रामीणों ने दी आन्दोलन की चेतावनी

0
65
प्रतीकात्मक

सहार/औरैया(ब्यूरो)- विद्युत कटौती से बेहाल लगभग दो दर्जन उपभोक्ताओं ने जेई पर घूंस माँगने का आरोप लगाते हुए अधिकारियों से शिकायत कर जेई आरबी बाथम के विरुद्ध कार्यवाही व स्थानांतरण किए जाने की माँग की है| पुरवा दानशाह सहार क्षेत्र  के निवासी आज कल विद्युत कटौती से बेहाल है और भाजपा सरकार बनते ही विद्युत कटौती शुरू हुई, जिससे नाराजगी हो रही। कई बार ख़बर के बाद भी सरकार झूठे आदेश जारी कर रही है जबकि योगी का फरमान बिजली विभाग वाले नहीं मान रहे हैं। सपा सरकार के जाते ही सहार क्षेत्र की बिजली गुल हो गई।

सपा सरकार में वीआईपी क्षेत्र का दर्जा पूरी बिधूना विधान सभा को प्राप्त था और लगभग 20 घंटे विजली पूरी विधान सभा को मिलती थी। सत्ता बदलते ही लोग बिजली को तरस रहे है। एक तरफ योगी सरकार ग्रामीण क्षेत्र में 18 घंटे विद्युत सप्लाई की बात करती है लेकिन पुर्वा सुजान पावर हाउस में हफ्ते में चार दिन फाल्ट ही बनी रहती है। लाइट का कोई भी तय शेडयूल नहीं है, कब बिजली आएगी और कब जायेगी किसी को भी पता नहीं है। दो-तीन दिनों से तो लाइट रात-रात भर गायब रहती है और जब जेई आरबी बाथम को फोन मिलाओ तो पहले तो फोन उठेगा ही नही और यदि उठ भी गया तो सही जवाब भी नही दिया जाता है।

विद्युत विभाग के कर्मचारियों द्वारा मनमानी तरीके से सरकार के आदेश को धता बताकर विद्युत कटौती अपने हिसाब से की जा रही है। शाम को एक या दो घण्टे विद्युत आपूर्ति करने के बाद बंद कर दी जाती है। जिससे क्षेत्रवासी गर्मी से परेशान है और ऐसी भीषण गर्मी में रात्रि जाग कर गुजारा कर रहे हैं। क्योंकि जेई आरबी बाथम, एसडीओ बिधूना एवम पुर्वा सुजान फीडर का पूरा स्टाप व्यक्तिगत रूप से सहार क्षेत्रवासियों से खुन्नस खाये हुए हैं। क्योंकि कुछ समय पूर्व गलत बिलों व अवैध रूप से कनेक्शन काटने व अभद्रता करने पर कस्बा के कुछ लोगों से झगड़ा फसाद हुआ था। इस कारण पूरे क्षेत्र को विजली काट कर परेशान किया जा रहा है| सरकार में बैठे लोग जनप्रतिनिधि व जिले के आला अधिकारी भी आँखे बन्द किये हुए हैं। इसीलिये विद्युत कर्मचारियो के हौसले बढ़े हुए हैं और सरकार के आदेश को भी ताक पर रखे हुए है|

ग्रमीणो का आरोप है कि जेई लोड बढ़ाने की कहकर वसूली करता है, न देने पर कनेक्शन काटने की कार्रवाई फर्जी दर्शाकर रिपोर्ट लिखाकर मुकदमा कायम कराता है। जैसा कि अभी कुछ समय पूर्व लगभग डेढ़ दर्जन लोगो पर मुकदमा फर्जी लिखाकर जेई ने जुर्माना जमा करवा दिया| मीटर लगवाने के लिए घूंस माँगता है, बिना घूंस के किसी का बिल संशोधन नही होने देता है। साथ ही जेई आरबी बाथम उपभोक्ताओं से अभद्र भाषा का प्रयोग करता है|

पडोसी गाँव के एक दुकानदार ने बताया कि घूंस मजबूरी मे देनी पड़ी नही तो जेई मुकदमा लिखाने की कह रहा था चूँकि सपा सरकार के समय अपने आपको जेई सपा नेताओ का खास कहता था। इसीलिए भाजपा सरकार मे विद्युत कटौती कराता है और बिना घूंस कोई काम नही करता है। इसलिए उपभोक्ताओं ने कार्रवाई करते हुए जेई आरबी बाथम को पुरवा सुजान फीडर से स्थानांतरित किए जाने की  माँग की है। एक सप्ताह मे कार्रवाई न होने पर उपभोक्ताओं ने सड़क पर उतर कर आंदोलन की चेतावनी दी है। यही हाल असेनि पावर हाउस से जुड़े उपभोक्ताओं है| विद्युत कटौती से बेहाल उपभोक्ताओं ने एकत्र होकर आंदोलन की चेतावनी दी कि विद्युत व्यवस्था मे सुधार तभी सम्भव होगा जो सपा के खास कर्मचारियों को अन्यत्र दूर स्थानांतरित कर दिया जाय|

देखना है कि तहसील दिवस एवं भाजपा नेताओ को दिए गये शिकायती पत्र पर कोई कार्रवाई होगी या पहले कि तरह प्रार्थना पत्र रद्दी की टोकरी मे डाल दिये जायेगें। जिससे उपभोक्ताओं को जेई और अधिक परेशान करने मे मशगूल हो जायेगा| कुछ समय मे ही साफ हो जायेगा कि सरकार के नुमायन्दे इस शिकायत पर कितनी तरजीह देकर कार्रवाई करायेंगे क्योंकि वह भी विद्युत कटौती से त्रस्त है।

रिपोर्ट- मनोजकुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here