पच्चीस वर्ष पूर्व बनी पानी की टंकी सप्लाई ठप

0
133


चकलवंशी/उन्नाव (ब्यूरो) : जनपद में आलाधिकारियों पर योगी सरकार का कोई खौफ नहीं है ग्रामीण पेय जल योजना के अन्तर्गत निर्मित पानी की टंकी शो पीस बनी खड़ी है उनमें तैनात आपरेटरों को सरकार घर बैठे वेतन दे रही है।और दर्जनों गाँवों की जनता पानी को तरस रही है। जल आपूर्ति न होने से प्रमुख सचिव जल संसाधन मंत्रालय भारत सरकार से ग्रामीणों ने शिकायत की गई थी।उसके बाद भी जनपद के आलाधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे है।

विकास खंड मियांगंज क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत सिर्स कन्हर सफीपुर-मियांगंज मार्ग मजरा सिर्स चेरी के पास ग्रामीण पेय जल योजना के अन्तर्गत लाखों रूपये की लागत से 25 वर्ष पूर्व पानी की टंकी सरकारी धनराशि से बनाई गई थी। गांवों में लगभग दस वर्ष सप्लाई चालू रही उसके बाद पन्द्रह वर्ष से सप्लाई बंद पड़ी है |


ग्रामीणों ने बताया है कि हजारों लीटर पानी बर्बाद हो रहा है, जिसका आलाधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं, जब लाइट आती है सप्लाई चालू हो जाती है दर्जनों गांवों की पानी सप्लाई पाइप लाइन ध्वस्त पङी है जिससे जगह-जगह हजारों लीटर पानी निकल कर बर्बाद हो रहा है | इससे संबंधित अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे है जिसमें जल आपूर्ति करने के लिये विद्युत लाइन की व्यवस्था भी है। उसके बाद भी पानी की सप्लाई नहीं दी जा रही है पानी की टंकी पर कर्मचारियों की तैनाती है उसके बाद भी नहीं आते है |

ग्रामीणों का कहना है कि जनपद के आलाधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे है, घर में बैठकर पूरे महीने का वेतन उठा रहे है, जबकि इस पानी की टंकी की सप्लाई दर्जनों गांवों के लिए है यह व्यवस्था सिर्फ कागजों पर की गई है, पानी की टंकी की सप्लाई होने वाले गांवों के नाम सिर्स कन्हर, सिर्स चेरी, ताजपुर, पनापुर, मवई बृम्हनान, लगलेसरा, अरेरकला, अहमदपुर, नई बस्ती, सिध्दनाथ, सीरेपुर आदि इस टंकी से लगभग एक दर्जन से अधिक गांवों में जल आपूर्ति करने का प्रावधान था। जहाँ अधिकारियों की लचर नीती के कारण वर्षो से जल आपूर्ति ठप पड़ी है। जिससे ग्रामीणों को पानी पीने के लाले पड़े हुए है।

टंकी पर तैनात कर्मचारी से जब पूछा गया की जल आपूर्ति क्यों बाधित है तो उन्होंने बताया की लाइट आती है तो सप्लाई चालू कर दी जाती है वह भी पानी टंकी के साथ खिलवाड़ खितार ख़राब हो गये है। जिससे आपूर्ति बाधित है वही रामपुर गढ़ौवा टंकी पर तैनात ऑपरेटर सिंहववन्हवन्ह यहाँ रुकते ही नही कभी कभी आते है।तीन हजार रूपये पर रखा गया प्राइवेट चौकीदार के हवाले टंकी विद्युत विभाग अधिकारी व कर्मचारियों की घोर लापरवाही को देखते हुए जल संसाधन मंत्रालय भारत सरकार से लेकर प्रमुख सचिव जल निगम व जिला अधिकारी से शिकायत की गयी | यहाँ के गाँवो में पेय जल आपूर्ति ठप पड़ी है । धन की बर्बादी रोकने के लिए जाँच कराकर दोषी अधिकारी व कर्मचारियों पर कार्यवाही की जाय। अधिकारियों की कब तक मनमानी चलेगी। ग्रामीणों ने आरोप लगाया ओर कहा है कि अब देखना है कि योगी सरकार ऐसे अधिकारियों पर ठोस कदम उठाती है की नही ?

रिपोर्ट – जीतेन्द्र गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here