सैकड़ों निर्दोष लोगों के कातिल को 5 स्टार होटल जैसे सुविधायें नहीं दी जा सकती :शरद पवार

0
178
शरद पवार फ़ाइल फोटो (photo credit - fb page of sharad pawar)
शरद पवार फ़ाइल फोटो (photo credit – fb page of sharad pawar)

 

देश के राजनैतिक गलियारों में आजकल अंडरवर्ल्ड डॉन और मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट का मुख्य आरोपी एक बार फिर से सुर्ख़ियों में हैं, यह बात चर्चा का विषय तब बन गयी जब करांची पाकिस्तान से एक दाउद के नजदीकी माने जाने वाले छोटा शकील ने एक न्यूज एजिंसी से फ़ोन पर बात की और इस बात का खुलासा किया कि 1993 में मुंबई में हुए बम ब्लास्ट के बाद वह भारत वापस आना चाहता था I लेकिन उसके लिए उसने (दाउद इब्राहिम) ने कुछ शर्ते रखी थी, लेकिन तब की सत्ता रूढ़ सरकार ने उसकी (दाउद इब्राहिम) सभी शर्तों को मानने से इनकार कर दिया था I

जब इस सवाल का जवाब पत्रकारों ने महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री शरद पवार से पूछा तो उन्होंने उसका बड़ा सीधा सा जवाब दिया और उन्होंने कहा कि एक भगोड़े को पांच सितारा होटल जैसे सुविधायें नहीं दी जा सकती हैं I उन्होंने आगे कहा कि दाउद इब्राहिम एक भगोड़ा और अपराधी हैं जिसने मुंबई में सैकड़ों लोगों की जान ली हैं और ऐसे ब्यक्ति के साथ नरमी बरती जाय यह ठीक नहीं हैं और इसीलिए उसके द्वारा वरिस्ट वकील रामजेठ मलानी के हाथों भेजवाये गए इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया गया था I

गौरतलब हैं कि शकील ने हाल ही में हुई बातचीत के दौरान यह बात भी कही थी कि भारत के वरिस्ट वकील रामजेठ मलानी से इस सम्बन्ध बातचीत और मुलाकात लन्दन में की गयी थी और आपको ज्ञात हो कि इसी वकील ने दाउद का प्रस्ताव और भारत सरकार और महाराष्ट्र सरकार के सामने रखा था I

पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार ने कहा है कि कानून सभी के लिए बराबर होता हैं कानून की नजर में न तो कोई छोटा होता हैं और न ही कोई बड़ा इसीलिए उसके प्रस्ताव और उसके द्वारा मांगी जाने वाली सुविधाओं को रद्द कर दिया गया था I गौरतलब हैं कि दाउद ने कहा था कि वह भारत वापस आने के लिए तैयार हैं बशर्ते उसे किसी जेल में रखने के बावजूद उसके घर पर ही उसे नजरबन्द रखा जाय I और चूँकि उसे अपनी जान का खतरा भी मह्शूश होता था इसीलिए उसने सरकार से इस बात की भी गुजारिश की थी उसे पूरी सुरक्षा भी मुहैया करवायी जानी चाहिए I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

two + 13 =