जब बारिश भी हुई डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर मेहरबान

0
989

apj 1

यह वाकया हैं 15 अगस्त 2003 का I भारत के पूर्व राष्ट्रपति डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम दुनिया के जितने बेहतरीन वैज्ञानिक थे वह उतने ही बेहतरीन और जिंदादिल इंशान भी थे I आज जब वह हमारे बीच में नहीं हैं तो उनके साथ काम कर चुके लोग रह-रह कर उनके साथ बिताये हुए पलों को याद कर एक से बढ़कर एक बातें लोगों के साथ साझा कर रहे हैं I उन्हीं में से यह भी एक वाकया हैं –

15 अगस्त 2003 का दिन था और हमेशा की तरह शाम को राष्ट्रपति भवन में शाम को देश के राष्ट्रपति महामहिम डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की तरफ से चाय पार्टी का आयोजन किया गया था I इस चाय पार्टी में देश के गणमान्य अतिथियों को निमंत्रण भेजा गया था और कुल मिलाकर लगभग 3000 लोगों को राष्ट्रपति की तरफ से किये गए इस आयोजन में सम्मिलित होना था I

apj abdul kalam16

अगले दिन की लगभग सभी जरूरी तैयारियां हो चुकी थी लेकिन 15 अगस्त 2003 की सुबह से ही दिल्ली के रायसीना हिल्स स्थित राष्ट्रपति भवन में भयंकर बारिश का महौल था I जोरदार बारिश से चारो तरफ केवल और केवल पानी ही पानी दिखायी पड़ रहा था I राष्ट्रपति भवन के सभी अधिकारी हैरान और परेशान की शाम की चाय पार्टी का आयोजन कैसे किया जाएगा ? अगर बारिश बंद नहीं हुई तो क्या होगा ? आखिर इन तीन हजार आने वाले आगंतुकों को हम कहा बिठा कर चाय पिलायेंगे ? बारिश तो बंद होने का नाम ही नहीं ले रही हैं I

अधिकारीयों ने जैसे तैसे आपस में विचार विमर्श किया और यह तय किया गया कि हम राष्ट्रपति भवन की छत के नीचे तक़रीबन 700 लोगों को आराम से चाय पिला सकते हैं और तुरंत ही आनन-फानन में 2000 छातों का इंतजाम किया गया I जिससे की बाकी के आगंतुकों को छाते के नीचे चाय पिलाया जा सके I

दोपहर के वक्त राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के ब्याक्तिगत सलाहकार नायर साहब उनसे मिलने के लिए पहुंचे तो हमेशा की तरह मुस्कुराते हुए डाक्टर कलाम ने उनसे कहा, “नायर क्या बेहतरीन मौसम हैं, ठंडी-ठंडी हवा चल रही हैं” I

apj abdul kalam13

नायर ने कहा, “सर आपने 3000 लोगों को शाम को चाय पर बुलाया हैं, इस तरह के मौसम में हम उनका स्वागत कैसे कर पायेंगे” ?

डाक्टर कलाम ने फिर से मुस्कुराते हुए अपने उसी चिर परिचित अंदाज में जवाब दिया और बोले, “आप बिलकुल चिंता मत करिए, इतना बड़ा राष्ट्रपति भवन किस दिन काम आएगा ? हम राष्ट्रपति भवन के अन्दर सभी को चाय पिलायेंगे” I

तभी उनके सलाहकार नायर बोल पड़े, “सर…! हम राष्ट्रपति भवन के अन्दर ज्यादा से ज्यादा 700 लोगों को ही ला सकते हैं, वैसे तो हमने 2000 छातों का इंतजाम कर लिया हैं लेकिन फिर भी मुझे ऐसा लगता हैं कि शायद यह बस नहीं होंगे, कम पड़ सकते हैं यह छाते” I

डाक्टर कलाम ने धीरे से मुस्कुराते हुए उनकी तरफ देखा और बोले, “और फिर हम कर भी क्या सकते हैं, अगर बारिश जारी ही रही तो फिर ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, हम भीगेंगे ही न” I

डाक्टर कलाम साहब की यह बात सुन उनके परेशान सचिव नायर साहब दरवाजे की तरफ बढे ही थे कि तभी भारत रत्न डाक्टर कलाम ने आवाज दी और धीरे से ऊपर की तरफ देखते हुए बोले आप चिंता मत करिए, बिलकुल भी आप परेशान मत होइए मैंने ऊपर बात कर ली हैं” I सचिव नायर महोदय कुछ समझ समझ ही न सके और वह आगे बढे और दरवाजे से होते हुए बाहर चले गये I आज भी नायर साहब उस समय को याद करते हुए कहते हैं कि उस समय तक़रीबन साढ़े 12 बजे के आस-पास का टाइम था I

और उसके बाद तकरीबन 2 बजे के आस-पास बारिश अचानक से रुक गयी, पानी की एक बूँद भी आसमान से नीचे की तरफ नहीं आयी और थोड़ी ही देर में देखते ही देखते आसमान साफ़ हो गया और सूर्य भगवान् आसमान पर ऐसे चमचमाने लगे मानों राष्ट्रपति भवन के उस मैदान की मिटटी और घास को सुखाने के लिए आये हैं जिस पर शाम को चाय पार्टी होनी हैं I

apj 123

और हमेशा की तरह शाम के ठीक पाँच बजे महामहिम डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम उस राष्ट्रपति भवन के विशालकाय मैदान में पधारे जहाँ पर लगभग सभी मेहमान पधार चुके थे I भारत रत्न और देश के सबसे बड़े वैज्ञानिक और देश के राष्ट्रपति डाक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को अपने बीच पा सभी काफी खुश हुए, उन्होंने सबके साथ चाय पार्टी का आनंद लिया और फिर सबके साथ फोटो खिंचवायी और ठीक सवा छह बजे सभी ने राष्ट्रगान में भाग लिया I

चाय पार्टी के समाप्त होते ही जैसे ही महामहिम राष्ट्रपति श्री ए.पी.जे. अब्दुल कलाम साहब राष्ट्रपति भवन की छत के नीचे पहुंचे तुरंत ही झमाझम बारिश शुरू हो गयी I उस वक्त को देखकर ऐसा लग रहा था मानों इन्द्रदेव से वास्तव में उनकी बात हो गयी थी कि जब तक मेरी चाय पार्टी नहीं हो जाती जरूरी काम काज नहीं निपट जाते आप जरा धैर्य रखियेगा I एक अंग्रेजी पत्रिका ने अपने एक अंक में छपे लेख में इस पूरी घटना को छापते हुए “शीर्षक” लिखा भी था कि कुदरत भी कलाम पर मेहरबान II data input –bbc.com

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

thirteen − eight =