यदि जिहाद इतना ही पवित्र है तो अलगाववादियों के बच्चे हथियार क्यों नहीं उठाते ?”

0
339

junaid

हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के भारतीय सेना के साथ मुठभेड़ में मारे जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में भड़की हिंसा पर एक मुख्य अलगाववादी नेता के बेटे ने ही अलगाववादी नेताओं पर सवाल खड़ा कर दिया है |

जम्मू-कश्मीर के प्रमुख अलगाववादी नेता और जम्मू – कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के संस्थापकों में से हाशिम कुरैशी के बेटे जुनैद कुरैशी ने जम्मू – कश्मीर के नौजवानों से कहा कश्मीर के नौजवानों को समझना होगा कि कश्मीर मसले का समाधान केवल बातचीत के ज़रिये ही संभव है |

युवाओं को समझना होगा कि बंदूक उठाने से कोई भी मसला हल नहीं होगा, वह युवा मेरे भाई की उम्र का था, वह डॉ. इंजिनियर, डॉक्टर, कवि, लेखक कुछ भी बन सकता था, अगर घाटी में हो रही चीज़ों को लेकर उनके मन में गुस्सा था तो उसे दूसरे तरीकों से ज़ाहिर किया जा सकता था, लेकिन हिंसा का रास्ता उसे मौत की ओर ले गया |

उन्होंने कहा इन अलगावादियों के बच्चे अमेरिका, इंग्लैंड और भारत के बड़े-बड़े शहरों में रहते हैं कश्मीर की गरीब अवाम के बच्चे गोलियों का शिकार हो रहे हैं और अलगाववादी इसका गुणगान करके उन्हें भ्रमित कर रहे हैं | यदि जिहाद इतना ही पवित्र है तो अलगाववादियों के बच्चे हथियार क्यों नहीं उठाते ?”

इसे भी पढ़ें – ओवैसी ने इस्लामिक स्टेट को बताया जहन्नुम का कुत्ता, बोले जहाँ मिले काट दो |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY