अतिक्रमण को बढ़ावा देने के लिए कहीं भी खड़े किए जा रहे विधुत पोल

0
35

पाली/ललितपुर ब्यूरो- सरकार की मंशा है कि अतिक्रमण कैसा भी हो कहीं भी न जम पाए लेकिन इन सबसे बेफिक्र विधुत पोल खड़ी करने वाली कार्यदायी संस्था कहीं भी विधुत पोल खड़े कर कस्बे की सूरत को बदनुमा कर अतिक्रमण की बड़ी इबारत गढ़ने में लगे हैं । विभागीय कर्मचारियों के आगे किसी का विरोध काम नहीं आ रहा है । कर्मचारियों द्वारा लोगों को पुलिस का भय दिखाकर चुप कराया जा रहा है । हद तो तब हो गयी जब विभागीय कर्मचारियों की निगरानी में  “सौभाग्य योजना,,  बिजली मुफ्त कनेक्शन के प्रचार प्रसार बैनर( जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी , प्रदेश ऊर्जामंत्री  श्रीकांत शर्मा की तस्वीर भी है ) को मशीन द्वारा निर्लज्जता से फाड़ दिया गया । लोग हैं कि रोकते रह गए ।

अतिक्रमण के नाम पर पाली बसस्टैंड के रहवासियों ने बड़ा दर्द झेला है । कई लोगों के आशियाने जेसीबी मशीन से ताश के पत्ते की तरह ढहा दिए गए थे । लोगों को लगा कि कस्बे में अब कभी अतिक्रमण नहीं जमेगा । कस्बे में इन दिनों एक कार्यदायी संस्था द्वारा जगह जगह विधुत पोल खड़े किए जा रहे हैं । इसके कर्मचारी पूरी तरह अपनी मनमानी के मुताबिक कार्य करने में लगे है । पीडब्लूडी विभाग का नियम है कि सड़क किनारे 55 फीट के दायरे में किसी तरह का कोई भी अतिक्रमण नहीं किया जाए ।वहीं कार्यदायी संस्था जिसका देखरेख विधुत विभाग के अधिकारी भी कर रहे है , उन्हें किसी की कोई भी परवाह नहीं सिर्फ अपने काम से मतलब । यही बजह है कि  जाखलौन से बंगरिया मार्ग जो अब टू लाइन पास हो चुका है , इस सड़क किनारे बेमतलब के विधुत पोल खड़े किए जा रहे हैं । सड़क से इनकी दूरी कहीं दो फीट,  तो कहीं पांच फीट ही नजर आती है । ऐसा नहीं है लोग इनका खूब विरोध भी करते है लेकिन पुलिस का भय व बिजली विभाग का कानून बताकर सबको चुप कराते आ रहे हैं । जिसके चलते विधुत पोलों ने मुख्य सड़क को हादसों का बाजार बना दिया । ब्रहस्पतिवार को मुख्य बसस्टैंड पर पानी की टंकी के पास  चौराहे किनारे विधुत पोल खड़ा किया जा रहा । लोगों ने अपना विरोध जताना शुरू किया तो कर्मचारी पुलिस का भय दिखाने लगे । मौके पर पाली पुलिस भी आ गयी । विरोध कर रहे लोग मौका देख भाग गए तो कुछ जिम्मेदारों ने वहीं खड़े होकर पुलिस से बात कर कस्बें का पक्ष भी रखा ।पुलिस में भी माना कि विधुत पोल गलत तरीके से खड़े किए जा रहे हैं । पुलिस की जरा सी बात मान कर्मचारियों ने पोल को थोड़ा आगे बढ़ा दिया । इस दौरान बीच में आ रहे प्रधानमंत्री , मुख्यमंत्री  , ऊर्जामंत्री के तस्वीर वाले बैनर को जो बिजली विभाग की सौभाग्य योजना का प्रचार प्रसार कर रहा था , उसको भी बड़ी निर्लज्जता से फाड़ दिया गया । जबकि लोग कह रहे थे हमें थोड़ा मौका दो इस बैनर को हम आराम से उतार लेंगे । कर्मचारियों की इस निर्लज्जता की लोग बड़ी निंदा कर रहे है । लोगों का कहना है कि सड़क किनारे कहीं भी खड़े किए जा रहे विधुत पोलों को 55 फीट दूर ही खड़ा किया जाए । जिससे यहां हादसों का बाजार तैयार होने से रुक जाए । अगर शासन प्रशासन को यह सही लगता तो अतिक्रमण के नाम की जा रही कार्रवाई सदैव के लिए बंद कर दी जाए ।

रिपोर्ट – जगदीश राय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here