भारतीय वन्‍य-जीव संस्‍थान, देहरादून में एशिया तथा प्रशांत क्षेत्र के लिए विश्‍व प्राकृतिक विरासत प्रबंधन तथा प्रशिक्षण केंद्र की स्‍थापना

0
1105

http://k-profil.com/mail/skolko-stoit-ayfon-5-32-gb-beliy.html сколько стоит айфон 5 32 гб белый wildlife institute of india

http://rodolfogn.com/owner/prodat-mashinu-v-gai.html продать машину в гаи

http://www.silicon-prairie.fr/priority/prava-na-zemlyu-podlezhashie-gosudarstvennoy-registratsii.html права на землю подлежащие государственной регистрации पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्रालय यूनेस्‍को के सहयोग से भारतीय वन्‍य-जीव संस्‍थान, देहरादून में यूनेस्‍को श्रेणी 2 केंद्र के रूप में विश्‍व प्राकृतिक विरासत प्रबंधन तथा प्रशिक्षण केंद्र स्‍थापित कर रहा है। इस संबंध में यूनेस्‍को के साथ शीघ्र ही समझौते पर हस्‍ताक्षर किए जाएंगे क्‍योंकि सभी प्रक्रियाएं पूरी कर ली गई है। यह पहला मौका है जब एक संस्‍थान को यूनेस्‍को द्वारा श्रेणी 2 केंद्र (सी2सी) केंद्र की मान्‍यता दी गई है। यह विश्‍व में प्राकृतिक विरासत के क्षेत्र में प्रबंधन और प्रशिक्षण के लिए स्‍थापित किया जाने वाला पहला केंद्र होगा।

новые виды энергии

http://www.gasregioninvest.ru/library/kak-podobrat-razmer-chashki-byustgaltera.html पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री प्रकाश जावडे़कर ने कहा कि यह केंद्र प्राकृतिक विरासत में विश्‍व विरासत प्रबंधन के क्षेत्र में संस्‍थान द्वारा किए गए कार्यों की मान्‍यता है और यह अनुभव एशिया तथा प्रशांत क्षेत्र के देशों के लिए संभावित प्राकृतिक विरासत स्‍थलों की पहचान, उनके अभिलेख तथा विश्‍व विरासत कन्‍वेंशन के उद्देश्‍यों के अनुरूप प्रबंधन में उपयोगी होगा।

http://morganmarketingsystems.com/priority/zhidkoe-testo-bez-mayoneza.html жидкое тесто без майонеза

инструменты форматирования текста सी2सी भारतीय वन्‍य जीव संस्‍थान के अभिन्‍न भाग के रूप में काम करेगा। वह संस्‍थान परिसर प्रबंधन तथा मानव संसाधन में साझेदारी करेगा। गर्वनिंग काउंसिल में यूनेस्‍को भागीदारी करेगा और वैश्विक विशेषज्ञों की राय भी उपलब्‍ध कराएगा। यह केंद्र एशिया-प्रशांत की क्षमता सृजन आवश्‍यकताओं को पूरा करेगा और भारतीय वन्‍य जीव संस्‍थान को क्षेत्र के सभी देशों में प्रबंधन के लिए क्षमता सृजन तथा प्राकृतिक विरासत की देखरेख के लिए अतिरिक्‍त प्रोत्‍साहन उपलब्‍ध कराएगा।

схема светодиодного фонарика на аккумуляторе

http://datacleansing.ru/library/sklif-2-sezon-opisanie-seriy.html склиф 2 сезон описание серий एशिया-प्रशांत क्षेत्र में पहले से 227 विश्‍व विरासत संपत्तियां हैं। इनमें से 59 प्राकृतिक स्‍थल हैं, 7 प्राकृतिक विरासत सहित 32 संपत्ति भारत में हैं। ये हैं-काजीरंगा नेशनल पार्क, केवलादेव नेशनल पार्क, मानस वाईल्‍ड लाईफ सेंचुरी, सुदंरबन नेशनल पार्क, नंदादेवी तथा वैली ऑफ फ्लावर्स नेशनल पार्क, पश्चिमी घाट (39 स्‍थल वन, राष्‍ट्रीय पार्कों तथा सेंचुरी) और ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क संरक्षण क्षेत्र हैं।

http://sabasepco.ir/mail/kak-otodrat-zhidkie-gvozdi.html как отодрать жидкие гвозди

http://address-novokuznetsk.ru/priority/prichini-vizova-v-nalogovuyu.html причины вызова в налоговую अभिलेख के लिए काजीरंगा नेशनल पार्क के प्रस्‍ताव का मूल्‍यांकन किया जा रहा है।

http://rapidsignmd.com/owner/zapolnit-tablitsu-po-tehnologii.html заполнить таблицу по технологии