सबका साथ, सबका विकास के सिद्धान्त पर प्रदेश आगे बढ़ रहा है: स्वामी प्रसाद मौर्य

0
84

बहराइच(ब्यूरो)- प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन, समन्वय विभाग/जनपद प्रभारी मंत्री श्री स्वामी प्रसाद मौर्या की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में जिला योजना समिति की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें जिला योजना वर्ष 2017-18 के लिए जनपद का परिव्यय रूपया 3 अरब 60 करोड़ 82 लाख का इस शर्त के साथ अनुमोदन प्रदान किया गया कि मा. विधायकगणों से प्राप्त प्रस्तावों को सम्मिलित करते हुए जिला योजना वर्ष 2017-18 को अन्तिम रूप प्रदान किया जाय।

जिलाधिकारी अजय दीप सिंह ने बताया कि जिला योजना के गठन में समस्त पंचायती राज संस्थाओं से जो प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं उनमें मूल रूप से पंचायत भवन, आंगनबाड़ी केन्द्र, सीसी रोड, केसी डेªन, हैण्डपम्प, नाली-खडं़जा, निःशुल्क बोरिंग, स्वास्थ्य उप केन्द्र, मध्यम गहरी बोरिंग, तालाब, सड़क एवं पुलिया रपटा आदि कार्यों पर विकास योजनाएं तैयार की गयी है जिनका समावेश जिला विकास योजना मे ंकिया गया है। प्राप्त प्रस्तावों से उभर कर आई आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए विभागीय अधिकारियों से विचार विमर्श कर क्षेत्र से आई विकास योजनाओं को पूर्ण रूप से उपलब्ध संसाधनों के अनुरूप समाहित किये जाने का प्रयास किया गया है। कुल निर्धारित परिव्यय रू. 36082 लाख के सापेक्ष रू. 7480.45 लाख एससीपी मद में तथा रू. 241.08 लाख टीएसपी मद के लिए आरक्षित किया गया है। शासन की शीर्ष प्राथमिकताओं यथा स्वच्छ पेयजल, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं रोजगार आदि को दृष्टिगत रखते हुए पर्याप्त मात्रा में परिव्यय प्रस्तावित किया गया है।

कृषि विकास के लिए रू. 2415.85 लाख, वनीकरण के लिए 990.67 लाख, रोजगार के लिए रू. 1583.70 लाख, विभिन्न सम्पर्क मार्गों के लिए रू. 4079.88 लाख, पंचायतराज के लिए रू. 1050 लाख, स्वच्छता के लिए 4200 लाख, शिक्षा के लिए 1136.20 लाख, चिकित्सा के लिए 1751.99 लाख, विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्तियों के लिए 941.87 लाख, विभिन्न पंेशन के लिए 940.43 तथा पेयजल के लिए 4164.00 लाख, कुल 23650.59 लाख (65.54 प्रतिशत) एवं अन्य योजनओं के लिए 12431.41 लाख के परिव्यय की व्यवस्था जिला योजना के अन्तर्गत की गयी है। केन्द्र द्वारा पुरोनिधानित विभिन्न योजनाओं यथा आइसोपाम योजना, एनआरएलएम, प्रशासन एवं निदेशन डीआरडीए, आईडब्लूएमपी, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी कार्यक्रम, सर्व शिक्षा अभियान, मिड डे मिल योजना, राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान, एनएचएम, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना, अत्याचार से पीड़ित व्यक्तियों को आर्थिक सहायता, विभिन्न छात्रवृत्तियों आदि के अन्तर्गत केन्द्रांश की व्यवस्था के लिए 18206.62 लाख की धनराशि के परिव्यय की व्यवस्था की गयी है जो कुल परिव्यय का 50.45 प्रतिशत है। कतिपय विभागों की योजनाएं राज्य सेक्टर अथवा आयोजनेत्तर पक्ष में हस्तान्तरित होने के कारण उनमे परिव्यय की व्यवस्था नही की गयी है।

बैठक में विभागवार जिला योजना के प्रस्ताओं पर चर्चा के दौरान विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, पयागपुर सुभाष त्रिपाठी, बलहा अक्षयबर लाल गौड़ व अन्य सदस्यों द्वारा रिक्त स्वास्थ्य केन्द्रों पर डाक्टरों की तैनाती किये जाने की मांग पर मा. मंत्री जी द्वारा अवगत कराया गया प्रदेश में डाक्टरों की कमी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा निर्णय लिया गया कि संविदा के आधार पर लगभग 4 हजार डाक्टरों की नियुक्ति की जायेगी। उन्होंने बताया कि जल्द ही रिक्त स्वास्थ्य केन्द्रों पर डाक्टरों की तैनाती कर दी जायेगी। मा. सदस्यों द्वारा यह भी सुझाव दिया गया कि जनपद में सभी स्वास्थ्य केन्द्रों को पूरी क्षमता के साथ संचालित किया जाय जिससे जनपद वासियों को स्वास्थ्य सेवाओं को भरपूर लाभ प्राप्त हो सके। साथ ही स्वास्थ्य केन्द्रों से अतिक्रमण भी हटवाया जाय। विधायक महसी श्री सिंह ने जनपद के रिबोर योग्य हैण्डपम्पों का अभियान चलाकर सत्यापन कराये जाने का सुझाव दिया।

बैठक के अन्त में प्रभरी मंत्री श्री मौर्य ने कहा कि जिलायोजना से सम्बन्धित माननीय विधायकगणों का प्रस्ताव प्राप्त करते हुए वर्ष 2017-18 के जिला योजना के प्रस्ताओं को अन्तिम रूप प्रदान किया जाय। उन्होंने कहा कि मा. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सबका साथ सबका विकास के सिद्धान्त पर प्रदेश आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में डाक्टरों एवं शिक्षकों की कमी को पूरा करने लिए शीघ्र हीं भर्ति की कार्यवाही की जायेगी। प्रदेश को विकास के पथ पर आगे ले जाना है। मा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों को प्रभावी ढं़ग से लागू किया जाय उसमें जो बजट दिया जा रहा है उसका पारदिर्शता के साथ व्यय किया जाय। सरकार की मंशा के अनुरूप विकास के कार्य में तेजी लायें। जिले के विधायक व अन्य जन प्रतिनिधि जिले के विकास व जनससमयाओं के निराकरण के प्रति संवेदनशील है इससे निश्चित रूप से जिले का विकास होगा और जनता के समस्या का समाधान भी किया जायेगा। सौहार्दपूर्ण वातावरण में बैठक सम्पन्न होने पर उन्होंने सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया।

बैठक के अन्त में मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार ने अभार एवं धन्यबाद ज्ञापित करते हुए कहा कि मा. मंत्री जी के जो दिशा-निर्देश एवं जनप्रतिनिधियों के सुझाओं का समावेश करते हुए जिले के विकास को गति प्रदान किया जायेगा। अधिकारी और जन प्रतिनिध एक टीम भावना के साथ कार्य करते हुए जिले के चैमुखी विकास के पथ पर आगे ले जायेंगे। बैठक का संचालन डीएसटीओ एसके बघेल ने किया।

इस अवसर पर विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, पयागपुर सुभाष त्रिपाठी, बलहा अक्षयबर लाल गौड़, सांसद कैसरगंज के प्रतिनिधि संजीव सिंह, नानपारा विधायक के प्रतिनिधि पूर्व विधायक दिलीप कुमार वर्मा, सहकारिता मंत्री के प्रतिनिधि गौरव वर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष श्यामकरन टेकड़ीवाल, अपर पुलिस अधीक्षक नगर कमलेश कुमार दीक्षित, सीएमओ डा. अरूण लाल, डीएफओ बहराइच आरपी सिंह, कतर्नियाघाट जेपी सिंह व अन्य सम्बन्धित अधिकारी, जिला पंचायत सदस्य एवं जिला योजना समिति के सदस्य व अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।

 रिपोर्ट- राकेश मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY