ट्रेन सिर से गुजरने के बाद भी जिंदा बच गई महिला

0
107

समस्तीपुर/दलसिंहसरायः समस्तीपुर-बरौनी रेल खंड के बीच स्थित स्थानीय माल गोदाम के समीप शनिवार की अपराह्न रेलवे ट्रैक पार करने के क्रम में हादसा होते—होते बचा| हुआ यूं कि महिला पैदल रेलवे ट्रैक पार कर रही थी कि अचानक सामने ट्रेन आ गई| महिला इससे बेखबर थी| लोगों ने यह भांप लिया कि हादसा बस होने ही वाला है| इसलिए लोग शोर मचाने लगे| लोगों के शोर मचाने पर महिला के मन में चाहे जो कुछ भी बात आई हो, वह रेलवे ट्रैक के बीच में लेट गई| इस बीच ट्रेन पटरी पर से गुजर गई और महिला दम साधे सोई रही| हालाँकि वह थोड़ी जख्मी तो हो गई, पर उसकी जान बच गई| ट्रेन गुजरने के बाद जब महिला स्वयं खड़ी हो गई तो लोगों ने भी राहत की सांस ली|

लोग उसके बच जाने पर हैरानी जता रहे थे और उसके बच जाने को चमत्कार बताते हुए उसे उसके किसी नेक कर्मों का फल बता रहे थे| वह मौत के मुंह में जाने से बच गई थी| मिली जानकारी के मुताबिक प्रखंड के भटगामा गांव के खैराटोल निवासी आनंदी दास की पत्नी रीता देवी दलसिंहसराय बाजार से खरीदारी कर रेलवे ट्रैक पार कर घर जा रही थी| इसी क्रम में डिब्रूगढ़-चंडीगढ़ एक्सप्रेस रेलवे ट्रैक से गुजर रही थी| महिला को ट्रैक से गुजरते और ट्रेन आते देख वहां खड़े लोग जोर-जोर से चिल्लाना शुरु कर दिया| ट्रेन को सामने देख महिला बिना देर किये रेलवे ट्रैक पर सो गई| इधर ट्रेन अपनी रफ्तार के साथ ट्रैक से गुजर गयी| वहां खडे लोगों में किसी को यह विश्वास नहीं था कि महिला जीवित बची होगी लेकिन कहावत है न कि ‘मारने वाले से बचाने वाले का हाथ ज्यादा बड़ा होता है|’

जब ट्रेन गुजर गयी तो वह महिला स्वयं ट्रैक पर खडी हो गयी| लोगों के हुजूम ने उसे घेर लिया लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि ट्रेन गुजरने के समय ट्रैक पर रखे कुछ पत्थर से उसके सिर पर चोट लगने से खून निकलने लगा| लेकिन वह पूरी तरह सुरक्षित थी| इधर सूचना मिलते ही आरपीएफ चेकपोस्ट इंस्पेक्टर धनंजय कुमार ने पुलिसकर्मियों के सहयोग से चिकित्सा हेतु अनुमंडलीय अस्पताल भिजवाया| इधर परिजन भी सूचना पर तत्काल वहां पहुंच गए और महिला को एक निजी क्लीनिक में बेहतर इलाज के लिए भर्ती करा दिया| चिकित्सक ने उसकी जान को खतरे से बाहर बताया है|

रिपोर्ट- भूषण कुमार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here