उपले लेने गयी महिला को जहरीले कीड़े ने काटा, हालत नाजुक

0
51

बांगरमऊ:उन्नाव(ब्यूरो)- कोतवाली क्षेत्र की ग्रामसभा भिखारीपुर पतसिया के मजरा कुंशी में उपले लेने गयी महिला को जहरीले कीड़े ने काट लिया। परिजनों द्वारा सी एच सी बांगरमऊ में भर्ती कराया गया। जहाँ से प्राथमिक उपचार के बाद उसे जिला अस्पताल रिफर किया गया। जिला अस्पताल में उपचार के दौरान महिला हुई बेसुध। पति के अनुसार परिजनों द्वारा कीड़े द्वारा काटे गए हाथ को कपडे से बांध दिया गया था। जिससे जहर ना फैले।

जिला अस्पताल स्टाफ द्वारा हाथ में बंधा कपड़ा खुलवाने के चंद मिनटो में महिला हुई बेसुध।मरणासन्न हालत में दिखाया गया कानपूर का रास्ता। थककर लौटे परिजन घर पर करा रहे झाड़फूंक। बताते चले कोतवाली क्षेत्र के ग्राम भिखारी पुर पतसिया के मजरा कुंशी निवासी मनोहर की 45 वर्षीय पत्नी गोमती मंगलवार की सुबह करीब 7 बजे खाना बनाने हेतु जलाने के लिए उपले लेने गयी थी।

वह जैसे ही उपले उठाने लगी उसे जहरीले कीड़े ने काट लिया। तुरन्त उसने परिजनों को बताया। उसके पति द्वारा कीड़े द्वारा काटे गए हाथ में जहर फैलने के डर से कसकर कपडा बांध दिया गया। आनन फानन उसे बांगरमऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहाँ से प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रिफर कर दिया गया। जिला अस्पताल में उपचार के दौरान डॉक्टरों ने उसके हाथ में बंधे कपडे को खोलने को कहा।

जिसपर पति द्वारा बिरोध किया गया। किन्तु धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर की बात मानते हुए जैसे ही कपड़ा हाथ से खोला गया। चन्द मिनटो बाद ही गोमती बेसुध हो गयी। हालत काबू में ना आती देख उसे कानपूर स्थित हैलट का रास्ता दिखाया गया। थक हारकर परिजनों द्वारा उसको मरणासन्न हालत में घर लाकर एक उम्मीद के साथ झाड़फूंक करवाया जा रहा है।

पति के अनुसार यदि जिला अस्पताल स्टाफ द्वारा उनके द्वारा बाँधा गया हाथ हालत काबू में आने से पहले ना खुलवाया जाता तो उसकी पत्नी की हालत गंभीर ना होती। जबकि बंधा हाथ खुलने से पहले गोमती लगातार परिजनों से बात करती रही। यदि कानपुर रिफर करना ही था तो बंध क्यों खुलवाया जिससे जहर पुर शरीर में फ़ैल गया।

रिपोर्ट-रामजी गुप्ता

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY