जिला प्रशासन की उपेक्षा के चलते शर्मसार होती महिलाएं ।

0
45

मिर्ज़ापुर (ब्यूरो)- विन्ध्याचल में गंगा घाटो पर प्रतिदिन हजारों की संख्या में दूर दराज से चलकर स्नानार्थियों का आगमन होता है , जिसमे महिलाओं व लड़कियों की संख्या काफी होती है । गंगाघाटों पर शौच इत्यादि का कोई प्रबन्ध न होने के कारण उन्हें काफी मानसिक पीड़ा का सामना करना पड़ता है ।

जबकि गंगा प्रमुख घाटों के समीप कुछ ऐसे स्थान भी है जो नगर पालिका का है और उसपर स्थाई रूप से शौचालयों का निर्माण भी किया जा सकता है । इसके अलावा चंद रुपये की लागत से अस्थाई शौचालयों का भी निर्माण घाटो पर ही किया जा सकता है । पर बार बार लोगो द्वारा जिलाप्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराए जाने के बावजूद भी इस तरफ घ्यान नही दिया जा रहा है ।

खुले में शौच करने वालो की तादात इतनी अधिक होती है कि घाटो के किनारे काफी गन्दगी व बदबू का माहौल स्थापित रहता है । स्वच्छता अभियान पर बड़ी बड़ी बातें करने वाले व हाथों में झाड़ू लेकर फोटो खिंचवाने वाले लोगो को वास्तविक सफाई से कोई लेना देना नही ।

रिपोर्ट-अंशु मिश्रा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY